Saturday, April 3, 2010

किसको कैसे जीते

मित्र को -सरल व्यवहार से
शत्रुको -उपाय से
स्वामी को -कार्य से
विद्वान् को -आदर से
क्रोधी को -नम्रता से
कंजूस को -पैसे से
भगवान् को -भक्ति से
सबको -प्रेम से