Tuesday, June 24, 2008

बटन की कहानी दीदी की पाती

बबलू कल अपनी दिदिया से फ़िर डांट खा रहा था क्यूंकि उसकी कमीज के बटन फ़िर से टूटे हुए थे और उसकी दीदी को फ़िर से उन्हें रोज़ रोज़ कमीज पर टांकना अच्छा नही लगता था . दीदी ने बबलू से कहा आओ मैं तुम्हे ही बटन लगाना सीखा देती हूँ ताकि रोज़ तुम मुझे परेशान मत करो ...
अच्छा दिदिया वह मैं सीख लूँगा पर पहले मुझे यह बताओ कि यह बटन बने कैसे ? .
.उसकी दीदी ने उसको बताया कि बटन आज से तीन हजार साल पहले बनने शुरू हुए थे ..पहले इन बटनों को सिर्फ़ अमीर लोग ही अपने कपडों पर लगाते थे महारानी एलिजाबेथ प्रथम को तो बटनों का इतना शौक था की वह सोने के गहने गलवा कर अपने लिए सोने के बटन बनवाया करती थी स्काटलैंड की रानी मेरी के पास ऐसे ४०० बटन थे जिन पर हीरे जवाहरात जड़े हुए थे हर बटन के बीच में एक लाल था
ड्यूक आफ बकिघ्म के बटन हीरों के होते थे और सम्राट लुई चोद्हवें ने छः बटन के सेट की कीमत २२ हजार पाउंड चुकाई थी

अमरीका में बटन इकट्ठे करने का शौक तीसरा समझा जाता है महिलाओं में यह बहुत लोकप्रिय है विक्टोरिया युग में लड़कियों की एक आम सोच थी कि यदि वह १ हजार बटन जमा कर के रख लेगी तो उसको उसका मनपसन्द जीवन साथी जरुर मिलेगा इसलिए उनके दोस्त और रिश्तेदार अपने उपयोग किए हुए बटन लड़कियों को दे दिया करते थे ताकि जल्दी से उनके पास एक हजार बटन हो जाए
कुछ समय पहले एक फ्रांसीसी सामंत के मरने पर उसके बटन नीलाम किए गए जिनका मूल्य ६,६७३ पौंड था एक अमरीकी फर्म ने इन्हे दुगने मूल्य पर खरीद लिया था

दुसरे महायुद्ध में ऐसे बटनों का आविष्कार किया गया था जो ब्लैक आउट होने पर चमकते थे पर न जाने क्यूँ वह बहुत लोगो को पसंद नही आए

हड्डी से ले कर लकड़ी तक अनेक चीजों के बटन बनाए जाते हैं इन दोनों ज्यादा प्लास्टिक के बटन बनते हैं ..सो देखा यह थी बटन की कहानी और तुम रोज़ जो बटन तोड़ कर आ जाते हो बबलू जानते हो एक बटन विशेषग्य का कहना है कि एक ओसत आदमी अपने जीवन काल में एक गुर्स बटन तोड़ता है ..पर अब तुम तोडेगे तो तुम्ही इसको लगाओगे समझे कह कर दिदिया ने बबलू को प्यार से एक चपत लगाई

वाह दिदिया यह तो बहुत अच्छी बातें बतायी तुमने ..बटन के बारे में
चलो अब मैं खेल कर आता हूँ ..अपना टूटा बटन मैं ख़ुद हो जोड़ लूँगा

जाओ खेलो ..कह कर दीदी मुस्करा दी

तो आप सबको कैसी लगी यह जानकारी बताये जरुर मुझे

आपकी दीदी

रंजू


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

4 पाठकों का कहना है :

Seema Sachdev का कहना है कि -

chalo bablu ke sath saath hamne bhi batan ke baare me vishesh jaankaari le li . Intzaar rahta hai aapki paati me nai jaankaari ka

भूपेन्द्र राघव । Bhupendra Raghav का कहना है कि -

छोटी छोटी चीज़ों की बड़ी बड़ी जानकारी.. हर पाती है...
आज ही आकर देखिये.. www.hindyugm.com par

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ का कहना है कि -

बहुत प्यारे बटन हैं। अगर मेरा बेटा इन्हें देख ले, तो वह पाने के लिए मचल उठेगा। पता नहीं क्यों उसे बटन इकटठे करना बडा शौक है।
अच्छी जानकारी है, बधाई।

सतीश सक्सेना का कहना है कि -

वाकई उपयोगी जानकारी ! इस प्रकार की अन्य उपेक्ष्हित चीजों पर लिखती रहें ! अलग हट कर कुछ देने का आनंद कुछ और ही है !

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)