Monday, January 12, 2009

स्वामी विवेकानंद

विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी सन्‌ 1863 को हुआ। उनका घर का नाम नरेंद्र दत्त था। उनके पिता श्री विश्वनाथ दत्त पाश्चात्य सभ्यता में विश्वास रखते थे। वे अपने पुत्र नरेंद्र को भी अंग्रेजी पढ़ाकर पाश्चात्य सभ्यता के ढंग पर ही चलाना चाहते थे। नरेंद्र की बुद्धि बचपन से बड़ी तीव्र थी और परमात्मा को पाने की लालसा भी प्रबल थी। इस हेतु वे पहले ब्रह्म समाज में गए किंतु वहाँ उनके चित्त को संतोष नहीं हुआ।

सन्‌ 1884 में श्री विश्वनाथ दत्त की मृत्यु हो गई। घर का भार नरेंद्र पर पड़ा। घर की दशा बहुत खराब थी। कुशल यही थी कि नरेंद्र का विवाह नहीं हुआ था। अत्यंत गरीबी में भी नरेंद्र बड़े अतिथि-सेवी थे। स्वयं भूखे रहकर अतिथि को भोजन कराते, स्वयं बाहर वर्षा में रातभर भीगते-ठिठुरते पड़े रहते और अतिथि को अपने बिस्तर पर सुला देते।

रामकृष्ण परमहंस की प्रशंसा सुनकर नरेंद्र उनके पास पहले तो तर्क करने के विचार से ही गए थे किंतु परमहंसजी ने देखते ही पहचान लिया कि ये तो वही शिष्य है जिसका उन्हें कई दिनों से इंतजार है। परमहंसजी की कृपा से इनको आत्म-साक्षात्कार हुआ फलस्वरूप नरेंद्र परमहंसजी के शिष्यों में प्रमुख हो गए। संन्यास लेने के बाद इनका नाम विवेकानंद हुआ।

-पाखी मिश्रा
छात्रा- कक्षा ६
साभार- विकिपीडिया


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

4 पाठकों का कहना है :

sahil का कहना है कि -

बहुत सुंदर जानकारी दी आपने बेटा.ऐसे ही लगे रहिये...
प्यार सहित
आलोक सिंह "साहिल"

neelam का कहना है कि -

पाखी रानी कब हो गई इतनी सयानी ,
विवेकानंद की कहानी ,हमको सुनाती

अवनीश एस तिवारी का कहना है कि -

स्वामी विवेकानंद के विषय में कुछ छापा यह देख खुशी हुयी |


अवनीश तिवारी

manu का कहना है कि -

अरे वाह ,
बिटिया रानी की नन्ही कलम और स्वामी जी का ज्ञान ..
वेरी गुड ...शाबाश ..

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)