Friday, November 14, 2008

बाल उद्यान ने मनाया Kids.I.T.World स्कूल के साथ बाल-दिवस


दिनांक १३ नवम्बर २००८ को औरंगाबाद के Kids.I.T.World स्कूल के विद्यार्थियों ने बाल-दिवस मनाया। इस अवसर पर 'बेस्ट आउट ऑफ वेस्ट' नाम की एक प्रतिस्पर्धा रखी गई थी, जिसमें बच्चों से न काम आने वाली वस्तुओं से कुछ रचनात्मक बनाने को कहा गया था।

प्रथम पुरस्कार प्राप्त आर्टिकल


हिन्द-युग्म के बाल-मंच 'बाल-उद्यान' की गतिविधि-प्रमुख सुनीता यादव इस अवसर पर वहाँ उपलब्ध थीं। यह कार्यक्रम को किड्स आईटी स्कूल और बाल-उद्यान के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित किया गया था। प्रथम और द्वितीय स्थान के विजेता बाल कलाकारों को बाल-उद्यान की ओर से भी पुरस्कार दिया गया। गौरतलब है कि इसी वर्ष गर्मियों में बाल-उद्यान ने बाल-समर-कैम्प में बाल-उद्यान ने इसी समूह के साथ मिलकर स्मृति लेखन और चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया था।

द्वितीय पुरस्कार प्राप्त आर्टिकल


आइए देखते हैं बाल-दिवस प्रदर्शनी की कुछ और झलकियाँ-
















आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

7 पाठकों का कहना है :

Seema Sachdev का कहना है कि -

सुनीता जी इस कार्य के लिए आप बधाई की पात्र है | सबमे कोई न कोई सृजनात्मक प्रतिभा छिपी होती है ,जरूरत है उसको समझने और बाहर निकालने की | तस्वीरो मे बच्चो की प्रतिभा दिखाई दे रही है | बहुत-बहुत बधाई.....सीमा सचदेव

neeti sagar का कहना है कि -

प्रत्येक बच्चे में बहुत कुछ सीखने की क्षमता के साथ-साथ एक अदभुत कला भी छुपी होती है! अगर हम और आप इनकी इस कला इस विशेषता को समझ सकें तो हर बच्चा अपनी जिंदगी में बहुत कुछ कर सकता है!

भूपेन्द्र राघव । Bhupendra Raghav का कहना है कि -

सृजन की क्षमता छुपी, बच्चों में भरपूर
छोटे छोटे चक्षु पर लिये हैं दृष्टि दूर
लिये हैं दृष्टि दूर , वेस्ट से बेस्ट बनाया
छोटे छोटे हाथों ने हर दिल को लुभाया
बच्चे कुछ नहीं कर सकते जिन्हें ऐसा भ्रम था
आकर जरा देख लो बाल सृजन की क्षमता

शोभा का कहना है कि -

सुनीता जी,
इस सुन्दर कार्य के लिए हार्दिक बधाई।

rachana का कहना है कि -

सुनीता जी पहले तो आप को बहुत बहुत बधाई इतने सुंदर आयोजन पे .और हाँ बच्चों ने क्या कमाल का बनाया है .हिंद युग्म एसे प्रयासों में शामिल होता बहुत ही अच्छी बात है पूरी टीम को बधाई
सादर
रचना

neelam का कहना है कि -

सृजन की क्षमता छुपी, बच्चों में भरपूर
छोटे छोटे चक्षु पर लिये हैं दृष्टि दूर
लिये हैं दृष्टि दूर , वेस्ट से बेस्ट बनाया
छोटे छोटे हाथों ने हर दिल को लुभाया
बच्चे कुछ नहीं कर सकते जिन्हें ऐसा भ्रम था
आकर जरा देख लो बाल सृजन की क्षमता
raaghav ji maafi chaahti hoon ,ab hum itna achchaa likhnahi sakte to
cheating to kar hi sakte hain na

तपन शर्मा का कहना है कि -

सुनीता जी आप हमेशा इन कामों में आगे रहती हैं..
बहुत खूबसूरत मॉडल हैं.. इनमें मेहनत झलक रही है...

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)