Sunday, May 10, 2009

सुनिए मातृ दिवस पर एक कहानी

बच्चो,

आज दुनिया के कई हिस्सों में मातृ-दिवस यानी मदर्स-डे मनाया जा रहा है। आप सभी को इस पर्व की ढेरों बधाइयाँ। भारत में माँ को समर्पित यह त्योहार मई महीने के दूसरे रविवार को मनाया जाता है। आपकी मीनू आन्टी आप सबके के लिए, आप जैसे अपनी-अपनी माँ से बहुत प्यार करने वाले बच्चों के लिए रचना श्रीवास्तव की लिखी कहानी 'मेरी माँ सिर्फ अच्छी है, लेकिन सबसे अच्छी नहीं' अपनी आवाज़ में रिकॉर्ड करके लाई हैं। सुनिए-


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

7 पाठकों का कहना है :

शोभा का कहना है कि -

वाह रचना जी,
बहुत ही सुन्दर कथा सुनाई। आपकी आवाज़ भी बहुत मधुर है। मातृ दिवस की शुभकामनाएँ।

शोभा का कहना है कि -

मीनाक्षी जी,
क्षमा चाहती हूँ। आपकी आवाज़ पहचान नहीं पाई। पर आवाज़ सचमुच बहुत मीठी है। बधाई स्वीकारें।

shanno का कहना है कि -

बहुत अच्छी कहानी और मधुर आवाज़ में. धन्यबाद. मातृ-दिवस की शुभकामनाएं!

neelam का कहना है कि -

रचना ,तुम्हारी इस कहानी ने काफी लोगों को झकझोर दिया था ,जब यह कहानी आई थी तपन ने तो बैठक में भी इस कहानी का जिक्र किया था ,कभी कभी बच्चों का एक मासूम सवाल कैसे इतनी बढ़िया कहानी की शक्ल ले लेता है ,यह तो हम तुम जानते ही हैं ,इतनी अच्छी कहानी लिखने और उस पर मधुर आवाज में उसे सुनाने का मीनू जी का शुक्रिया .आगे और इसी तरह की सुन्दर रचनाओं के इंतज़ार में |

दुनिया की सभी माँओं को इस माँ का सलाम ,नमस्कार ,सत श्री अकाल जी |

shobha ji aapka aaj ke din visesh taur par shukriya ada karna chaahungi ,aap kuch bhi nayi prastuti dene par jo kam shabdo me hausla aafjaai karti hain hum sabhi ka uske liya dil shradhavash jhuk jaata hai aapke liye .

neelam का कहना है कि -

sir shardhavash jhuk jaata hai ,aur il gad gad ho jataa hai .

hahahahahaahahahahahaaa

aap paheliyon ki kaksha me bhi aaya kijiye please.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक का कहना है कि -

सुन्दर प्रस्तुति,
मातृ-दिवस की शुभ-कामनाएँ।

rachana का कहना है कि -

aap sabhi ka mbahut bahut dhyavad
minu ji aap ne kahai ko awaj diya aap ka bhi bahut bahut dhnyavad
saader
rachana

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)