Tuesday, January 1, 2008

हैप्पी न्यू ईयर



आओ हम झूमे नाचे गायें
अहा खुशियाँ खूब मनायें
नयी उमंगें नयी तरंगें
हम नये तराने गायें
हम हैप्पी न्यू ईयर गाये


आओ चिंटू आओ दिशिता
आओ पिंटू आओ इशिता
हम सब दोस्त बन जायें
अहा जी भर मौज उडायेँ
हम हैप्पी न्यू ईयर गायें


नया साल है नयी बात है
तारों की बारात साथ है
जी भर खुशियाँ सैर सपाटा
2007 को कर दो टाटा
हम जी भर खुशी लुटायें
हम हैप्पी न्यू ईयर गाये


सूरज चँदा सबके घर में
रोज उजाला लायें
सर सर सर सर पवन चले तो
जग सुरभित हो जाये
हम प्रेम का दरिया बहायें
हम हैप्पी न्यू ईयर गायें

माता पिता की सेवा करके
ऊँचे उठते जायें
मजबूत इरादे बने रहें तो
हर मुशकिल कट जाये
हम कभी नही घबराऐं
हम हैप्पी न्यू ईयर गायें

- सुषमा गर्ग
01.01.2008


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

7 पाठकों का कहना है :

shobha का कहना है कि -

सुषमा जी
नव वर्ष पर बहुत अच्छा सन्देश दिया है आपने । नया साल आप सभी के लिए मंगलमय हो यही कामना है । सस्नेह

mamta का कहना है कि -

अच्छी कविता।
नया साल आपको और आपके परिवार को मुबारक हो।

रचना सागर का कहना है कि -

सुषमा जी
बहुत अच्छी कविता और वैसा ही बहुत अच्छा संदेश

sahil का कहना है कि -

सुषमा जी बहुत अच्छे. नव वर्ष पर आपको भी सपरिवार
बहुत बहुत बधाई
आलोक सिंह "साहिल"

Bhupendra Raghav का कहना है कि -

सुषमा जी,

नव वर्ष पर सुन्दर आनन्दित करने वाली कविता..
बहुत बहुत बधाई

Alpana Verma का कहना है कि -

'माता पिता की सेवा करके
ऊँचे उठते जायें
मजबूत इरादे बने रहें तो
हर मुशकिल कट जाये'

-बहुत अच्छा सन्देश दिया है.
-अच्छी कविता है.

रंजू का कहना है कि -

माता पिता की सेवा करके
ऊँचे उठते जायें
मजबूत इरादे बने रहें तो
हर मुशकिल कट जाये
हम कभी नही घबराऐं
हम हैप्पी न्यू ईयर गायें

नव वर्ष पर आपको बहुत बहुत बधाई

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)