Friday, January 11, 2008

जंगल में दंगल

आया दिन फिर मंगल
जश्न आज है जंगल
होगा बड़ा इक दंगल
मनेगा खूब मंगल ।

स्कूटर पे भालू आया
बंदर अपनी साइकिल लाया
चिट्ठी बाँट कबूतर आया
गुर्राता फिर बाघ आया ।

बिल्ली अपनी कार में आई
भागी सरपट लोमड़ी आई
मै मै करती बकरी आई
चिड़िया चूँ चूँ उड़ती आई ।

लंगूर कूदा पूँछ दबाये
हाथी घोड़ा साथ में आए
तोता मैना कौआ आए
हिरन जिराफ़ बतियाते आए ।

सबने आ डेरा जमाया
अपना- अपना आसन पाया
हेलीकाप्टर में शेर आया
सबसे ऊँचा मंच पाया ।

भाषण देने चीता आया
मोर ने करतब दिखाया
शेर ने फिर हाथ दिखाया
कार्यक्रम को आगे बढ़ाया ।

खली, केन, राक को बुलाया
रिंग में उनको उतरवाया
चिंपाजी को रेफरी बनाया
पहलवानों में दंगल करवाया ।

प्रोग्राम ने तारीफ पाई
विजेता को मिली बधाई
सबने जम ताली बजाई
छक कर खूब मिठाई खाई ।

कवि कुलवंत सिंह


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

7 पाठकों का कहना है :

seema gupta का कहना है कि -

बिल्ली अपनी कार में आई
भागी सरपट लोमड़ आई
मै मै करती बकरी आई
चिड़िया चूँ चूँ उड़ती आई
"बहुत खूब , मजा आ गया अपने बचपन की याद ताज़ा हो गई"
" Regards"

रंजू का कहना है कि -

आया दिन फिर मंगल
जश्न आज है जंगल
होगा बड़ा इक दंगल
मनेगा खूब मंगल ।


बहुत सुंदर कविता लिखी है आपने कवि कुलवंत जी .बचपन की याद दिला दी आपने :)

रचना सागर का कहना है कि -

अरे वाह
क्या जंगल मे मंगल है।

बहुत अच्छी कविता

बधाई

Bhupendra Raghav का कहना है कि -

जंगल के दंगल के साथ साथ आपका जन्म दिन मंगलमय हो.. बहुत बहुत बधाई.

tanha kavi का कहना है कि -

बड़ी हीं बेहतरीन जंगल में दंगल है।
बधाई स्वीकारें।

-विश्व दीपक 'तन्हा'

Alpana Verma का कहना है कि -

बहुत ही प्यारी बाल-कविता है.पूरी कविता एक चलचित्र की तरह हो गयी है.बहुत मजा आया.चंपक की कहानियाँ याद आ गयीं .

sahil का कहना है कि -

बहुत khub kulwant जी.
बधाई हो
आलोक सिंह "साहिल"

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)