Friday, January 25, 2008

टेलीविजन अंधेरे में न देखें

कुछ लोग टेलीविजन देखने के लिए कमरे में बत्तियां बंद कर देते हैं यां पर्दे आगे कर देते हैं । उनको लगता है कि इससे पिक्चर की क्वालिटी अच्छी आयेगी । लेकिन मेरे प्यारे नन्हे दोस्तों ऐसा नही है ।
श्वेत प्रकाश में हमें वस्तुएं ज्यादा साफ एवं स्पष्ट नजर आती हैं । अत: पृष्ठभूमि में एक हल्के प्रकाश की उपस्थिति फायदेमंद है। हां यह अवश्य है कि यदि टेलीविजन के स्क्रीन पर प्रकाश की किरणें सीधे पड़ेंगी तो कुछ किरणें परावर्तित होंगी जिससे हमें टी. वी. साफ नही दिखाई देगा । इसलिए प्रकाश की उपस्थिति तो आवश्यक है किंतु सीधे टी. वी. स्क्रीन पर प्रकाश नही पड़े ।
टी. वी. को अंधेरे में देखने से आंखों पर अधिक जोर पड़ता है । स्क्रीन पर बार बार दृष्य बदलने से चमक कम और ज्यादा होती रहती है जो हमारी आंखों को अंधेरे कमरे में अधिक प्रभावित करती हैं । इसके अतिरिक्त अधिक चमक वाली रोशनी जब हमारी आंखॊं में प्रवेश करती है तो आंखों में भी इसका आंतरिक परावर्तन होता है जो कि रेटिना को प्रभावित करती है ।

कुलवंत सिंह


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

5 पाठकों का कहना है :

Alpana Verma का कहना है कि -

न केवल बच्चों के लिए बल्कि यह जानकारी तो सभी के लिए बहुत उपयोगी है.
धन्यवाद.

seema gupta का कहना है कि -

"अच्छी जानकारी है, ऑंखें सबसे ज्यादा कमजोर होती हैं इस तरह , तो सभी बच्चा लोग ध्यान रखें ठीक है ना ,और हम भी रखेंगे "

रंजू का कहना है कि -

बहुत अच्छी बात बताई आपन कुलवंत जी !!

sahil का कहना है कि -

कुलवंत जी उपयोगी जानकारी देने के लिए धन्यवाद
आलोक सिंह "साहिल"

Bhupendra Raghav का कहना है कि -

कवि जी,

बढ़िया जानकारी
न केवल बच्चों के लिये वरन सभी के लिये..

धन्यवाद

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)