Monday, January 7, 2008

राष्ट्र और राष्ट्रभाषा
किसी भी राष्ट्र के लिए राष्ट्रभाषा का होना अति आवश्यक है। 14सितंबर सन् 1949 को संविधान सभा ने हिन्दी भाषा को भारतीय संघ की राजभाषा के रूप में स्वीकृति देकर हिन्दी का सम्मान तो किया परंतु अंग्रेजी के गुलाम हम भारतीयों ने अंग्रेजी को इतना महत्व दिया कि हिन्दी उपेक्षित ही रही। इसका प्रमाण यही है कि अब तक हिन्दी देश की घोषित राष्ट्रभाषा नही बन सकी है। यह अलग बात है कि दबी जुबान सभी हिन्दी को राष्ट्रभाषा मानने लगे हैं। इस ओर सरकारी प्रयास की चर्चा करें तो अब स्थिति अनुकूल लग रही है, फिर भी कुछ लोग विरोध में तरह-तरह की दलीलें दे रहे हैं। जबकि हिन्दी देश के सभी लोगों के लिए अनुकूल भाषा है। आइए हिन्दी भाषा की उन विशेषताओं को जाने जिसके कारण हिन्दी आसानी से संपर्क भाषा के रूप में विकसित हो रही है:-

1.हिन्दी लिखने पढने में सरल है ।
2.हिंदी समझने में सुबोध है।
3.हिन्दी में पर्याप्त वर्णमाला (अक्षर) है।
4.हिंदी का अपना व्यवस्थित व्याकरण है।
5.हिंदी का अपना वृहत शब्द-कोश (शब्द भंडार) है।
6.हिंदी में स्पष्ट विरामादि चिह्नों की व्यवस्था है।
7.नमनीयता हिंदी का एक विशेष गुण है,जिससे वह अन्य भाषाओं के शब्दों को ग्रहण कर अपने को समृद्ध करने में सक्षम है ।
8.शिरोरेखा हिंदी की सुंदरता को बढाने में सहायक होता है।
9.यादृच्छिकता हिंदी का एक विशेष गुण है,जिसके कारण हिंदी को अलग-अलग करके लिखा जा सकता है।
10. हिंदी में वर्णों का आकार एक समान है,और प्रत्येक वर्ण के लिए अलग-अलग लिपि चिह्न निश्चित है।
11.हिंदी में अनुस्वार,अनुनासिक,हलंत, पंचमाक्षर आदि के प्रयोग की स्पष्ट व्यवस्था है।
12.हिंदी में भी अंग्रेजी की तरह ही विज्ञान,तकनीकी,वाणिज्य, प्रशासन एवँ पारिभाषिक शब्दावलियों का अपार भंडार है।
13.संपूर्ण भारतवासियों के लिए अनुकूल भाषा हिंदी ही है क्योकि हिंदी संस्कृत की उत्तराधिकारिणी है और भारत की अधिकाँश भाषा संस्कृत से ही विकसित हुई है ,अत: हिंदी अहिंदी भाषियों के लिए भी अनुकूल और सरल भाषा है।
14.देश के अलग-अलग भाषा-भाषी लोगों ने हिंदी को अपनाकर हिन्दी की सरलता और महत्ता को स्वीकारा है,तभी हिंदी देश की संपर्क-भाषा बन सकी है।हम उनके प्रति कृतज्ञ हैं।
15.आओ, हम गर्व से कहें- हिंदी देश की राष्ट्रभाषा है, इसमें बात करें, काम करें और राष्ट्रध्वज,राष्ट्र-गान की तरह ही हिंदी का सम्मान करें
जय हिंद , जय हिंदी .........................................
डॉ. नंदन:- बचेली, बस्तर (छ.ग.)


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

5 पाठकों का कहना है :

shobha का कहना है कि -

नन्दन जी
हिन्दी भाषा का महत्व इतने सुन्दर और सरल शब्दों में बताने के लिए बहुत-बहुत बधाई । यदि हमारी नई पीढ़ी इस तथ्य को समझ जाएगी तो अवश्य ही हिन्दी पुनः अपना स्थान प्राप्त कर सकेगी । हम सभी का कर्तव्य है कि हम अपने बच्चों को अपनी भाषा का सम्मान करना सिखाएँ ।
आपके इस प्रयास के लिए आपकी जितनी भी प्रशंसा की जाए कम है । सस्नेह

रचना सागर का कहना है कि -

नन्दन जी
हिन्दी के महत्व को नई पीढ़ी आपके इस रचना बहुत अच्छे से समझ सकते है।

रंजू का कहना है कि -

बहुत अच्छे से आपने हिन्दी के बारे में जानकारी दी है नन्दन जी....यह बच्चों के साथ साथ बड़ों के भी काम की है अच्छा लगा इसको पढ़ना !!

Alpana Verma का कहना है कि -

नंदन जी ,हिन्दी भाषा के बारे में जानकारी[ विशेषताओं को] क्रम से देने का यह तरीका बहुत अच्छा लगा क्योंकि बच्चे निबंध जैसे लेख पढने से बचते हैं.इस जानकारी से हिन्दी भाषा का महत्व अच्छी तरह से बच्चे भी समझ पाएंगे .
बाल उद्यान पर बीच बीच में ऐसे लेख जैसे नींद से उठा देते हैं.
धन्यवाद.

tanha kavi का कहना है कि -

नंदन जी,
हिंदी का महत्व याद दिलाने के लिए आपको बहुत-बहुत धन्यवाद

-विश्व दीपक 'तन्हा'

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)