Wednesday, November 19, 2008

झाँसी की रानी (कथा-काव्य)

झाँसी की रानी की कहानी कथा-काव्य के माध्यम से

बच्चो एक बहादुर नारी
माने जिसको दुनिया सारी
लक्ष्मी बाई था उसका नाम
किए अनूठे उसने काम
माँ भगीरथ की सन्तान
पिता मोरोपन्त की जान
काशी नगरी जन्म स्थान
मनु नाम से मिली पहचान
गंगाधर सँग विवाह रचाया
लक्ष्मी बाई नाम फिर पाया
निभाया अपना पत्नी धर्म
दिया एक पुत्र रत्न को जन्म
पर विधिना ने दिया न साथ
खोया प्यारा सुत इक रात
लिया गोद दामोदर राव
भरा नि:संतान का घाव
भाग्य फिर भी था विपरीत
कुछ दिन मे ही खोया मीत
अब अकेली रह गई रानी
फिर भी उसने हार न मानी
अपनाया झाँसी का राज
पहन लिया रानी का ताज
पर अंग्रेजो को न भाया
और रानी को कह सुनाया
गोद लिया सुत नही कोई माने
खुद को वो रानी न जाने
हो गई रानी अब मजबूर
भाग्य भी था कितना क्रूर
हुआ वहाँ अंग्रेजी राज
छिन गया रानी का ताज
सन अठारह सौ सत्तावन
बदला फिर रानी का जीवन
भड़की आजादी की आग
रानी अब फिर से गई जाग
झाँसी पर अधिकार जमाया
अंग्रेजो को मार भगाया
पर साथी कुछ थे गद्दार
पीठ के पीछे किए प्रहार
अंग्रेजो को भेद बताया
झाँसी से रानी को भगाया
कालपी पहुँच गई अब रानी
पेशवा को जा कही कहानी
आया पेशवा को भी क्रोध
किया अंग्रेजो का विरोध
जीत लिया ग्वालियर का किला
अंग्रेजो को सबक मिला
पर न साथी थे वफादार
नही थे उनके उच्च् विचार
अंग्रेजो से बेपरवाह
जीत मनाने लगे अथाह
कुछ ने दिया रानी को धोखा
मिल गया अंग्रेजो को मौका
घोडे पर अब निकली रानी
किन्तु हार किस्मत ने मानी
नाला पडा था इक पथ पर
ठहर गया घोडा वहीं पर
आ पहुँचे वहीं पर अंग्रेज
हुआ युद्ध दोनो मे तेज
अंत समय मे घायल रानी
साथी को इक बात बखानी
खत्म हो रहा मेरा जीवन
पर न छुए मुझे कोई अपावन
रानी का साथी था खास
साधु की कुटिया थी पास
जाके वही रानी को छुपाया
अंत समय रानी का आया
छूट गया था यह संसार
वही हुआ अंतिम संस्कार
बन गई उसकी अमर कहानी
ऐसी थी झाँसी की रानी


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

9 पाठकों का कहना है :

शोभा का कहना है कि -

सीमा जी,
बहुत अच्छी औृ उपयोगी जानकारी दी है।

neeti sagar का कहना है कि -

सीमा जी आपकी रचना आज के दिन पढ़ कर बहुत अच्छा लगा!आज झाँसी की रानी की जयंती है! और मैं भी झाँसी की ही हूँ! इसलिए बहुत-बहुत बधाई!

neeti sagar का कहना है कि -

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,खूब लड़ी मर्दानी वो तो झाँसी वाली रानी थी ............

संगीता पुरी का कहना है कि -

बहुत अच्‍छा , कविता के रूप में उपयोगी जानकारी दी है आपने।

भूपेन्द्र राघव । Bhupendra Raghav का कहना है कि -

सीमा जी बहुत बहुत धन्यवाद

झाँसी की रानी
की वीरता कहानी
आपने बखानी

वो झाँसी की रानी थी
सचमुच में मर्दानी थी


पढकर बहुत अच्छा लगा..

neelam का कहना है कि -

सीमा जी बचपन से ही रानी लक्ष्मी बाई ,से प्रेरणा मिली है ,आज फिर से आपकी कविता पढ़ी तो ,फिर से रानी लक्ष्मी बाई जैसे जुझारू होने और कभी हिम्मत न खोने की प्रेरणा मिल ही गई है |
भाग्य फिर भी था विपरीत
कुछ दिन मे ही खोया मीत
अब अकेली रह गई रानी
फिर भी उसने हार न मानी
अपनाया झाँसी का राज
aap ki kalam tatha aapko naman karte hain

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

बहुत कम पद्यों में आपने झाँसी की रानी की वीरता भरी कहानी कह दी है। आपका किन शब्दों में तारीफ करूँ!

संजीव सलिल का कहना है कि -

रानी झांसी की किया याद, यही है हर्ष.
देश भूल उनको गया, याद निजी उत्कर्ष.

मैंने झांसी-ग्वालिअर, जाकर किया प्रणाम
थीं दुर्गा का रूप वे, पवन दिव्य ललाम.

कथा लिखी आभार लें, किया पुण्य का काम.
'सलिल' शहीदों की रहे, अमर कीर्ति यश नाम..

pooja का कहना है कि -

GOOD TO READ. I REALLY ENJOYED.

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)