Wednesday, February 18, 2009

खिजाब लगाने वाले

खिजाब लगाने वाले
वृधावस्था में अकबर खिजाब लगाया करते थे एक बार खिजाब लगाने के दौरान उन्होंने बीरबल से पूछा -"बीरबल ! खिजाब दिमाग को नुकसान तो नही पहुंचाता ?"

बीरबल चुप रहे क्या जवाब देते जो जवाब देते ,वह बादशाह को पसंद न आता ,इसलिए वे चुप ही रहे

बादशाह अकबर ने सोचा की शायद बीरबल के पास इस सवाल का जवाब नही है और इस सवाल को लेकर बीरबल का मजाक बनाया जा सकता है

अत: उन्होंने फिर पूछा -"बताओ न खिजाब लगाने से दिमाग को नुकसान तो नही पहुचता? "

अब बीरबल से न रहा गया तपाक से बोले - "हुजूर !खिजाब लगाने वालों के दिमाग ही नही होता यदि होता तो

क्यों बनावटी सुन्दरता को लादकर बूढे से जवान बनते "

यह उत्तर पाकर अकबर बादशाह चुप हो गए बीरबल ने अपने जवाब में उनकी ओर संकेत कर दिया था कि उनमे दिमाग नही है मगर उनका उत्तर था बिल्कुल ठीक

अत: अकबर ने उस दिन से खिजाब लगाना छोड़ दिया


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

12 पाठकों का कहना है :

इष्ट देव सांकृत्यायन का कहना है कि -

खिजाब लगाने के बारे में भोजपुरी की एक कहावत है - एक त झूठ, उहो कपारे पर.

सीमा सचदेव का कहना है कि -

अकबर बीरबल के मजेदार किस्से , उम्मीद है और भी सुनने को मिलेंगे |

Nirmla Kapila का कहना है कि -

aji aaj pata chala ki hamara bhi dimaag nahi hai aaj hi to khizab lagaya hai age se tauba

शोभा का कहना है कि -

हा हा हा सच कहा है बीरबल ने। आजकल ऐसे लोग बहुत मिल जाएँगें।

pakhi का कहना है कि -

waah ! maza aa gaya , hume akbar aur birbal ki kahaniyaan bahut pasand hai , asha hai aap aur bhi acchi acchi stories sunayegi

rachana का कहना है कि -

क्या बात है बीरबल जी जिंदाबाद
मैने ये किस्सा नही पढ़ा था आप का धन्यवाद की आप ने यहाँ लिखा .कृपा कर और भी एसे किस्से लिखियेगा
रचना

आलोक सिंह "साहिल" का कहना है कि -

मजा आ गया नीलम जी...
आलोक सिंह "साहिल"

manu का कहना है कि -

हम तो पहले से ही कहते आ रहे हैं के हम में............
दिमाग नाम की कोई cheej है ही नहीं ....कभी थी ही नही..

भूपेन्द्र राघव । Bhupendra Raghav का कहना है कि -

मौरल ऑफ द स्टोरी :

खिजाब अन्दर तक असर करता है... बालों को जडों से काला करता है..

वैधानिक चेतावनी : मात्रा से अधिक इस्तेमाल बालों की जडों के साथ साथ पूरा दिमाग काला कर सकता है, अतः विशेषज्ञ की परामर्श अनिवार्य है..

सीमा सचदेव का कहना है कि -

raaghav jee kaa vishesh dhanyavaad . mujhe yah kissaa to bahut achcha lagaa lekin jab se padaa khijaab kaa matlab talaash rahi thi aur aaj neelam ji se hi poochane kaa man banaayaa tha , par aapne samjha diya ki khijaab kya hota hai , mai ise kuch aur hi samajh rahi thi......:)

तपन शर्मा का कहना है कि -

अकबर बीरबल के किस्से.... इसकी एक सिरीज़ शुरु होनी ही चाहिये...
पंचतंत्र, हितोपदेश की कहानियाँ.. दंत-कथायें, जातक-कथायें.. इन सबसे भी बच्चों का परिचय अवश्य करायें.. ये बहुत जरुरी हैं... बच्चों को इनके बारे में कुछ नहीं पता आजकल... शिनचैन जरूर जानते हैं।
आशा है इन सब पर भी गौर किया जायेगा।
वैसे बीरबल का जवाब बिल्कुल दुरुस्त था... :-)

neelam का कहना है कि -

bhla ho raaghav ji ke comment ka ,
waise seema ji aap ise kya samjhi thi ,munaasib samajhiye to hume bataayiye jaroor

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)