Tuesday, December 25, 2007

क्रिसमस केक [दीदी की पाती भाग ८]
















दीदी की पाती में आज तुमको हम
एक नई बात बताएं
आज है क्रिसमस का प्यारा सा त्योहार
चलो मिल कर ज़िंदगी को मीठे केक सा कर जाए


आओ सिखाएं आपको इस केक को बनाना
इसके लिए जरा यह सब सामान तो ले के आना

एक कप प्यार , में १०० ग्राम दयालुता ,
५०० ग्राम दुआ [प्रार्थना ] मिला के इसको नरम बनने तक हिलाना
फ़िर इस में १५० ग्राम भावना त्याग की ,
और १०० चम्मच मदद सबके लिए ५ मिनट तक रख जाना
अब इस में १०० बूंदे मुस्कराहट की
१ चम्मच सहन शक्ति के साथ अच्छे से
इन सबको मिला के फ़िर इसको पकाना

अब देखो इन सब चीजों को मिला के
ज़िंदगी का स्वाद है कितना मीठा
सबको प्यार से अपने अब यही केक तुम खिलाना


था न यह बहुत अच्छा सा केक ...क्रिसमस आते ही केक के साथ -साथ याद आते हैं ,सांता क्लाज ..) क्रिसमस का त्योहार आते ही बच्चो की खुशी का ठिकाना नही रहता सांता क्लाज आयेंगे ढेर से तोहफे लायेंगे यही उम्मीद लिए सारी दुनिया के बच्चे इनका इंतज़ार करते हैं शायद ही दुनिया का कोई बच्चा ऐसा होगा जिसे इनका इंतज़ार न होगा दुनिया भर का प्यार समेटे अपनी झोली में यह आते हैं और बच्चो को इंतज़ार होता है अपने तोहफों का जो वो चिठ्ठी [पाती] लिख के अपनी मांग उनको लिख के भेजते हैं .क्या आप जानते हैं की सांता क्लाज को हर साल कितनी पाती मिलती है .....अभी एक अखबार में पढी जानकारी के अनुसार यह पढने में आया कि ... आपको यकीन नही होगा लेकिन यह सच है हर साल उन्हें ६० लाख से भी ज्यादा पाती मिलती है और
सांता उनका जवाब देते हैं . सयुंक्त राष्ट्रीय की यूनीवर्सल पोस्ट यूनियन के अनुसार सांता क्लाज़ को ढेरों नन्हें मुन्ने बच्चों की पाती मिलती हैं सांता कितने लोकप्रिय हैं इसका अंदाजा इसी बात से लगया जा सकता है कि कम से कम २० देशों के डाक विभाग सांता के नाम से आने वाली चिट्ठियों को अलग करने और फ़िर उनका जवाब देने के लिए अलग से कर्मचारी भरती करते हैं.... कई पाती पर तो सिर्फ़ इतना ही लिखा होता है सांता क्लाज़ नॉर्थ पोल ..इन चिट्ठियों का दिसम्बर में तो अम्बार लग जाता है !कनाडा डाक विभाग २६ भाषा में इनका जवाब देता है जबकि जर्मनी की डयुश पोस्ट १६ भाषा में इन का जवाब देती है कुछ देशो में तो इ- मेल से भी जवाब दिए जाते हैं पर सांता रहते कहाँ है.....यह अभी साफ साफ नही पता चल पाया है :)पर कनाडा और फ्रांस के डाक कर्मी सबसे ज्यादा व्यस्त रहते हैं क्यूंकि इन दोनों देशों में १० लाख से भी ज्यादा नन्हें मुन्ने चिट्ठी लिखते हैं
सर्दियों में मनाया जाने वाला यह त्योहार लगभग सभी देशों में मनाया जाता है लेकिन सांता को कई नामों से जाना जाता है कहीं फादर क्रिसमस ,तो कहीं सेंट निकोलस ,रूस में इन्हे डेड मोराज़ के नाम से जाना जाता है

तो यह थी दीदी की क्रिसमस केक को बनाने की विधि ,और क्रिसमस की कुछ जानकारी ....पसंद आई आपको ?हर त्योहार यही तो मिठास भरेगा हमारे जीवन में यदि हम इन सब चीजों से ज़िंदगी को जीएंगे ...यह प्यारा सा त्योहार आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ लाये ...यही शुभकामना है मेरी ..करे अब हम सब मिल के नए साल का स्वागत
और ढेर से चाकलेट खाए
सजाये क्रिसमस ट्री से घर अपना और धूम धमाका हम मचाएँ !!

आपकी दीदी

रंजू


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

7 पाठकों का कहना है :

shobha का कहना है कि -

रंजना जी
बहुत बढ़िया केक बनाया । बच्चों के साथ-साथ बड़ो को भी इसको बनाना सीखना चाहिए । बच्चों के साथ-साथ सभी मित्रों को क्रिसमिस की मीठी-मीठी बधाई ।

sahil का कहना है कि -

रंजू जी आपकी पाती का भी जवाब नहीं है, आपने बिल्कुल सही समय पर केक बनवाया,
क्रिसमस पर केक का मजा ही कुछ और होता है.
आलोक सिंह "साहिल"

sahil का कहना है कि -

रंजू जी आपकी पाती का भी जवाब नहीं है, आपने बिल्कुल सही समय पर केक बनवाया,
क्रिसमस पर केक का मजा ही कुछ और होता है.
आलोक सिंह "साहिल"

श्रीकान्त मिश्र 'कान्त' का कहना है कि -

'दीदी तेरी पाती' का जबाब नहीं
बच्चों को केक सिखाने में भी
कितना बताया हिसाब नहीं '

प्यारे बच्चों !
आज आपकी रंजना दीदी ने कितने प्यार से आपको केक बनाना सोखा दिया और प्यारी सी बातें भी कह डालीं. सच पूछो तो इतने स्वादिष्ट केक की बातें सुनकर ही मेरे 'मुंह में पानी आ गया'
अरे ! बच्चो ये तो बात ही बात में हमने आपको एक मुहावरा बता दिया. अब पता नहीं आज केक मुझे मिलेगा या नहीं. पर अगली बार आपकी दीदी मुहावरों पर जरूर आपके लिए कुछ ना कुछ लायेंगी आख़िर वो आपको बहुत प्यार करती हैं ना .... तो बच्चो ढेर सारे प्यार सहित क्रिसमस की ढेर सारी खुशियाँ और बधाई

Bhupendra Raghav का कहना है कि -

लो दी-दी ने केक बनाया
हमने भी मुहुँ खोला
नटखट बच्चों चट कर गये
या दी को थेंक यू बोला
बच्चें : थेंकूऊऊऊऊऊऊऊ दी दीईईईईईईईईईईई

रचना सागर का कहना है कि -

बहुत बढिया केक... धन्यवाद

दिवाकर मिश्र का कहना है कि -

केक में भरा है प्यार प्यार में डूबा है केक ।
केक में है प्यार कहूँ या कि प्यार में है केक ।
नेक दिल से केक बना के चखाओ हर किसी को ।
चारों ओर वातावरण खिल उठेगा नेक नेक ॥

केक तो बड़ा ही अच्छा था, मैने कैसे इसे देखने में इतनी देर कर दी ?

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)