Wednesday, August 22, 2007

कुतुब मीनार और लौह स्तम्भ की सैर

आओ आज तस्वीरों से कुतुब मीनार की सैर करें । यह कुछ तस्वीरें हैं जो मैंने कुतुब मीनार की सैर के समय ली थी ।
कुतुब मीनार पत्थर से बनी हुई सबसे ऊँची मीनार है भारत में । यह दक्षिण दिल्ली के महरौली क्षेत्र में स्तिथ है। इसे कुतुबुद्दीन ऐबक ने बनवाया था । कुतुब मीनार की ऊंचाई ७२.५ मीटर है । इसका आधार १४.३ मीटर व्यास का है जो ऊपरी सिरे तक जाकर २.७ मीटर रह जाता है। इस स्मारक को यूनेस्को ने विश्व धरोहर घोषित किया हुआ है।
क़ुतुब मीनार के बहुत निकट 'लौह स्तम्भ' भी स्थित है । घूमते समय यह कुतुब मीनार के परिसर में आता है । लोहे की इस स्तम्भ को चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य के शासन काल में बना गया था । लौह-स्तम्भ में लोहे की मात्रा करीब ९८% है और अब तक जंग नहीं लगा है जबकि इसके ऊपर कोई छ्त नहीं है । १६०० बर्षों से यह हर मौसम में यह खुले आसमान के नीचे है - चाहे गर्मी हो, जाड़ा या बरसात । है न यह अद्भुत ! इतने सालों पहले हमारा धातु-विज्ञान कितना विकसित था :) ।

पत्थर पर बहुत अच्छी नक्काशी भी देखने में बहुत आनंद आता है । कैसे बनाया होगा छेनी-हथौड़ी से शिल्पकारों ने इतनी अच्छी-अच्छी नक्काशी ?


इस स्थल पर हिन्दू और जैन मन्दिरों के अवशेष भी हैं । बगीचे और पेड़-पौधों के बीच घूमने का अच्छा स्थान भी है और साथ ही भारत के इतिहास को देखने का मौका भी ।

तो कहो, कैसी रही कुतुब मीनार और लौह स्तम्भ की सैर ?

- सीमा कुमार


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

9 पाठकों का कहना है :

राजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि -

सीमा जी,
तस्वीरें बहुत अच्छी है और जानकारी भी आपने अच्छी दी है। इसे मैं अच्छा आलेख कहूँगा।

बच्चों के लिये यदि इस आलिख को थोडा मनोरंक भी बनाया जाता तो और भी आनंद आता, जैसे यदि आपने जानवरों की पिकनिक करा दी होती कुतुब मीनार में......:)

*** राजीव रंजन प्रसाद

shobha का कहना है कि -

सीमा जी
बहुत ही सराहनीञ एवं प्रशंसनीय प्रयास किया है आपने ।
कुतुबमिनार की इतनी विस्तृत जानकारी देकर । आशा है बच्चों
के साथ-साथ बड़ भी इससे लाभ उठाएँगें । बहुत-बहुत बधाई ।

Udan Tashtari का कहना है कि -

सुन्दर तस्वीरों के साथ ज्ञानवर्धक पोस्ट. बधाई एवं आभार.

sunita (shanoo) का कहना है कि -

सीमाजी बहुत सुन्दर लगी फ़ोटोग्राफ़ी...बच्चों को चित्र दिखा कर कुतुब मीनार की सैर करवा दी आपने...

शानू

परमजीत बाली का कहना है कि -

सीमा जी, आप ने बढिया तस्वीरे और बढिया जानकारी दी है।उसके लिए धन्यवाद।

रंजू का कहना है कि -

बढिया तस्वीरे और बढिया जानकारी सीमा जी,

ऋषिकेश खोङके "रुह" का कहना है कि -

सीमा जी
कुतुबमिनार की इतनी विस्तृत जानकारी सराहनीञ है ,
बच्चों के लिये साथ ही बडो के लिये भी लाभप्रद |

Seema Kumar का कहना है कि -

टिप्पणियों के लिए धन्यवाद । वैसे वास्तविक टिप्पणी तो बाल-पाठक ही दे सकते हैं :) ।

राजीव जी, आप्की बात से सहमत हूँ .. मुझे भी कमी लग रही थी बच्चों के हिसाब से पर तस्वीरें थीं तो मैं ने आलेख पर ज्यादा जोर नहीं दिया । आगे ध्यान रखूँगी ।

- सीमा कुमार

naveentyagi का कहना है कि -

seema ji kutub minaar ko us samrat vikrmadvitiy ne banvaya tha jinhone isha se 57 varsh poorv vikrami savwat chalaya tha. vastav me kutub minaar ek vedshaalaa thi,jahan par mihir naam ke khagol shastri shodh kaary karte the.aur un mihir ke naam se hi us sthaan ka naam mihiraavli(mahroli) pada. bharat se 4 shak shaaskon ko khaderne ke baad vijay stambh banvaya thaa.

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)