Saturday, April 19, 2008

महावीर स्वामी की शिक्षाएँ

बच्चो,

कल महावीर स्वामी का जन्मदिवस था। बाल-उद्यान पर समय-समय पर सुंदर-सुंदर कविताएँ प्रकाशित करने वाली हम सबकी प्रिय सीमा सचदेव इस बार महावीर स्वामी की शिक्षाओं को कविता रूप में लेकर आई हैं। महावीर स्वामी के बारे में तुम्हें तुम्हारे माता-पिता, गुरूजनों ने अवश्य बताया होगा, उनके द्वारा दी गई शिक्षा भी तुम्हें ज़रूर बतायी होगी। मगर सीमा आंटी की कविता पढ़कर तुम्हें वो शिक्षाएँ याद हो जायेंगी, जिसे तुम अपने दोस्तों को भी सुना पाओगे।

सीमा सचदेव जी ने यह कविता कल ही भेज दी थी लेकिन कुछ तकनीकी कारणों के कारण हम नहीं प्रकाशित कर सके।

महावीर स्वामी की शिक्षाएँ


आओ बच्चो मिलकर आओ
आज तुम्हें कुछ बातें बताऊँ
महावीर के जन्मदिवस पर
उनके कुछ उपदेश सुनाऊँ
...................................
कभी किसी से झूठ न बोलो
सच्च के लिए अपना मुँह खोलो
जब भी कभी बोलना चाहो
तो पहले शब्दों को तोलो
रखो सदा ही सच्च को साथ
चाहे दिन हो चाहे रात
किसी की कभी न करो बुराई
मीठी वाणी मे सबकी भलाई
....................................
कभी कोई गलती कर जाओ
तो माफी से मुक्ति पाओ
माफी माँगना या फिर करना
नहीं कभी कोई इससे डरना
रखो सबसे मैत्री भाव
छोड़ो सबपे यह प्रभाव
क्षमा से बडा न कोई उपहार
होते इससे उच्च विचार
.....................................
कभी न हिंसा किसी पे करना
सबसे ही मिलजुल कर रहना
सबमें एक ही जैसी जान
नहीं करना किसी का अपमान
छोड़ो सारे वैर-विरोध
कभी न मन में लाना क्रोध
.....................................
बच्चो यह सब बातें समझना
अच्छाई के मार्ग पर चलना
महावीर के शुभ वचनों का
जीवन में सब पालन करना



महावीर स्वामी के जन्मदिवस के पावन अवसर पर हिन्द-युग्म परिवार तथा सभी पाठकों को हार्दिक शुभ-कामनाएँ..... सीमा सचदेव


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

5 पाठकों का कहना है :

अतुल का कहना है कि -

बच्चों के साथ बडों के लिए भी ज्ञानवर्धक.

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

सीमा जी,

आप एक सफल बाल साहित्यकार हैं। इससे और अधिक क्या कहूँ। अब तो मुझे भी महावीर स्वामी के संदेश याद हो गये।

tanha kavi का कहना है कि -

सीमा जी,
महावीर स्वामी की शिक्षाएँ आज के युग में ज्यादा प्रासंगिक एवं अनिवार्य हैं। हम सब को उनके दिखाए गए रास्ते पर चलना चाहिए। इस अवसर पर आपकी रचना पढकर बहुत हीं अच्छा लगा। बधाई स्वीकारें।

-विश्व दीपक ’तन्हा’

sahil का कहना है कि -

सीमा जी ये केवल बच्चों के लिए ही नहीं वरन बडो के लिए भी आकर्षक,बेहतरीन,बधाई
आलोक सिंह "साहिल"

pooja anil का कहना है कि -

सीमा जी , महावीर स्वामी की शिक्षाओं को आपने बहुत ही सहज एवं सरल भाषा में याद दिला दिया , आपका बहुत बहुत धन्यवाद

^^पूजा अनिल

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)