Saturday, October 18, 2008

बूझो तो जाने

बूझो तो जाने

१.
बीच चौराहे करे कमाल
रँग है इसका लाल-लाल
जब यह अपना रूप दिखाए
तो चलते वाहन थम जाएँ


२.
बीच चौराहे खडी पुकारे
देखो मुझे सारे के सारे
पीली परी है बीच बाज़ार
हो जाओ चलने को तैयार



३.
हरे रँग की मै हू रानी
मै तो हूँ तुम सबकी नानी
जब भी मै कोई करूँ इशारे
भाग पडे सारे के सारे


४.
देखो इधर-उधर फिर चल दो
आजु-बाजु देखो पल दो
देखो काला और सफैद
बोलो मेरा क्या है भेद


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

7 पाठकों का कहना है :

sumit का कहना है कि -

बच्चो को यातायात के नियम बताने का आपका तरीका अच्छा लगा

सुमित भारद्वाज

sahil का कहना है कि -

sahi tarike se di gai achhi jankari.
ALOK SINGH "SAHIL"

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

खुद क्या बूझें! घर के बच्चों से ज़रूर पूछूँगा।

neelam का कहना है कि -

very innovative way to teach the very simple things in a very simple way.
hum to waise bhi aapke jabardast
prashanshk hain

Kavi Kulwant का कहना है कि -

kisane kisane boojha?

भूपेन्द्र राघव । Bhupendra Raghav का कहना है कि -

:)

सुन्दर

Anonymous का कहना है कि -
This comment has been removed by a blog administrator.

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)