Wednesday, October 28, 2009

फिर से सर्दी आई रे



फिर से सर्दी आई रे,
धीरे-धीरे आई रे।

सुबह-सुबह उठना न भाये,
ठंडे पानी से कौन नहाये,
सोच कंपकपी आई रे।
फिर से सर्दी आई रे।

होमवर्क करने न पाऊँ,
हाथ कहें, क्यों साथ निभाऊँ,
हमें रजाई भाई रे।
फिर से सर्दी आई रे।

मम्मी की है गोद न्यारी,
गर्मी दे है प्यारी-प्यारी,
नींद सुहानी आई रे।
फिर से सर्दी आई रे।

गर्म-गर्म पिलाओ चाय,
रोटी भी हम सब गर्म ही खायें,
हलवे की बारी आई रे।
फिर से सर्दी आई रे।

काजू-किशमिश खूब चबायें,
मूँगफली के मजे उडायें,
सबने मौज मनाई रे।
फिर से सर्दी आई रे।

--डॉ॰ अनिल चड्डा


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

7 पाठकों का कहना है :

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

अनिल जी,

जब भी सर्दी आती है तो हमें भी बचपन, अलाव और माँ की गोद याद आ जाते हैं। बहुत बढ़िया कविता लिखी है आपने।

©डा0अनिल चडड़ा(Dr.Anil Chadah) का कहना है कि -

शैलेशजी,

आपको कविता पसन्द आई, बहुत-बहुत शुक्रिया । और भी सभी जिन्होने यह कविता पढ़ी उनका भी शुक्रिया । प्रोत्साहन के लिये आभारी हूँ ।

neelam का कहना है कि -

anil ji achchi kavita hai.aapki kavita record kar di hai ,agli fursat me mil jaayegi aapko .

Kavi Kulwant का कहना है कि -

are wah anil ji.. bahut khoobsurat..

©डा0अनिल चडड़ा(Dr.Anil Chadah) का कहना है कि -

धन्यवाद, नीलमजी । कुलवंतजी, आपको कविता अच्छी लगी, मन को प्रोत्साहन मिल गया । आप से मैं विशेष उम्मीद रखता हूँ ।

shanno का कहना है कि -

आपकी यह सर्दी वाली कविता भी क्या खूब मौके की है! हम तो ठिठुर रहे हैं अभी से ही ( असल में यहाँ सर्दी भी हो रही है. )

Rajesh_barnwal का कहना है कि -

अनिल जी आपने तो हमेँ बचपन याद दी शुक्रिया अनिल जी

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)