Thursday, October 15, 2009

जगमग आई दीवाली



फिर से जगमग करती आई
आओ हम त्योहार मनाएँ
मिलजुल कर सब बड़े और छोटे
दीपावली के दिये जलायें।

हँसी-ख़ुशी से सबके घर में
होगा लक्ष्मी जी का पूजन
उलसित होकर करें आरती
और लक्ष्मी जी को करें नमन।

अन्दर-बाहर, ऊपर-नीचे
टिम-टिम कर दीप जलें
प्रेम-भावना लेकर आओ
हम सब फिर से गले मिलें।

मावस की काली रजनी में
दिखता नहीं उजाला जब
दीपक जला-जला देखो
कितना उजियारा होता तब।

भाग-भाग कर सारे बच्चे
दिये जला कर दिखें निहाल
फुलझडी और फोड़ पटाखे
ख़ुशी से हो जाते हैं बेहाल।

सबके घरों में बनते हैं
कितने सारे इस दिन पकवान
उनको खाकर मिलजुल कर
फिर खाते ढेरों हैं मिष्ठान।

चारों तरफ सजावट दिखती
चहल-पहल लगे दूकानों में
प्रेम-भाव से क्लेश दूर हों
अपनों और अनजानों में।

आओ हम सब अपने मन के
सारे अंधियारों को मिटा डालें
समझ-बूझ और अपनेपन से
अंतरमन जगमग कर डालें।

आशा की किरणें बनें रोशनी
ना आये निराशा कभी भी पास
करें कामना अच्छाई की और
अपने मन में रखें हम विश्वास।

---शन्नो अग्रवाल


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

8 पाठकों का कहना है :

neelam का कहना है कि -

आशा की किरणें बनें रोशनी
ना आये निराशा कभी भी पास
करें कामना अच्छाई की और
अपने मन में रखें हम विश्वास।

bahut achchi seekh deti hui kavita ,shanno ji kamaal kar diya apne to ,aakhir honhaar monitor jo hain aap hmaare baal udyaan ki

Disha का कहना है कि -

सुन्दर रचना
बधाई

अर्शिया का कहना है कि -

दीप पर्व एवं धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएँ।
----------
डिस्कस लगाएं, सुरक्षित कमेंट पाएँ

shanno का कहना है कि -

आप सभी को मेरा धन्यबाद. और दीवाली की तमाम शुभकामनाएँ.
नीलम जी आपकी बातों से मन खुश हो गया है. अब आप ही बताओ की मैं शिष्या किसकी हूँ?
आपकी ही ना, तो फिर.....

dschauhan का कहना है कि -

शन्नो जी, हार्दिक नमस्कार!
बहुत सुन्दर कविता है!
आपने तो दीवाली की खूब
बढ़िया फुलझड़ी छोड़ी है!
दीवाली के शुभ अवसर पर
आपको और आपके परिवार को
हमारी तरफ़ से हार्दिक शुभकामनायें।
लक्ष्मी जी सदा आपके घर पर
निवास करें और आप पर सुख
समृद्दि की वर्षा हो।

देवेन्द्र सिंह चौहान

shanno का कहना है कि -

देवेन्द्र जी,नमस्कार!
मेरी कविता की तारीफ़ करने का बहुत शुक्रिया....आप लोगों के प्रोत्साहन से शक्ति मिलती है कुछ लिखने की. और दीवाली पर मेरी तरफ से भी आपको व आपके समस्त परिवार को ढेरों शुभकामनाएँ. लक्ष्मी जी की कृपा से जीवन में सुख-शांति, समृद्धि और खुशियाली रहे ऐसी कामना करती हूँ.

Anonymous का कहना है कि -

apse bharat ko naz hai.apki kavita bahut achi lagi

shanno का कहना है कि -

आप जो भी हैं और जहाँ भी हैं आपको मेरा अति धन्यबाद. आपका कमेन्ट मन में गुदगुदी सी करके उसे उत्साह से और भर गया. आप सभी लोग ऐसे ही मुझे बल देते रहिये हमेशा.

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)