Wednesday, August 15, 2007

आओ बच्चो हम चित्र बनाना सीखें

भला चित्र बनाना किसे अच्छा नही लगता। पैंसिल, कागज और रबर हाथ में हो तो चित्र बना कर किसी को भी अपनी कला से सम्मोहित किया जा सकता है। अपने मित्रों व सबंधियों को उनके जन्मदिन पर ग्रीटिंग कार्ड बना कर दिया जा सकता है। आज हम एक पक्षी बनाना सीखेंगे।


पक्षी बनाने के लिये सबसे पहले हम एक गोला बनायेंगे जो पक्षी का शरीर बनायेगा -



उसके बाद उस गोले के ऊपर एक और गोला बनायेंगे जो कि पक्षी का सिर बनेगा -


अब हम पक्षी की चोंच और उस की पूंछ बनायेंगे, जैसा नीचे चित्र में दिखाया गया है -


अब हम पक्षी के पंख बनायेंगे जो कि नीले रंग से दिखाये गये हैं -


अब हम कुछ लाईनो को जो जरूरी नहीं है और लाल रंग से दिखाई गयी हैं मिटा देगें और कुछ और लाईन जोडेगे जो कि नीले रंग से दिखाई गयी हैं -




अब हमारा पक्षी रंग भरने के लिये पूरा तैयार है और ऐसा दिखाई देगा -


अब आप उस में मन चाहे रंग भर सकते हैं... मैने जो भरे हैं उस में पक्षी ऐसा दिखाई देता है -


आप भी कोशिश करके बडी आसानी से इसे बना सकते हैं|
अगली कडी में हम एक और चित्र बनाना सीखेंगे|


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

8 पाठकों का कहना है :

Jitendra Chaudhary का कहना है कि -

बहुत सुन्दर। बहुत अच्छा प्रयास।
ऐसे प्रयास बड़ी संख्या मे होने चाहिए, बच्चों के लिए साइट्स तो दिखती ही नही।

आप लोग साइडबार मे बच्चों की जितनी साइट के लिंक दिखा सकें उतना बेहतर होगा।

विपिन चौहान "मन" का कहना है कि -

बहुत सुन्दर प्रयास है आप का
निष्चित ही बाल मन का विकास होगा.. आज़ यूँ भी बच्चे इन सब चीज़ों से दूर होते जा रहे हैं..और टी.वी. में अपना बचपन खो रहे हैं..
हिन्द युग्म के प्रयास को देख कर दिल को सुकून मिला है
बहुत बहुत आभार..

Udan Tashtari का कहना है कि -

हम तो यही कहेंगे कि वाह भइ वाह, बहुत बेहतरीन प्रयास. साधुवाद.

राजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि -

मोहिन्दर जी,
आपने चित्र ज्ञान जो प्रदान किया उसका आनंद मेरी बिटिया नें तो उठाया ही, इस छुट्टी मुझे भी बच्चा हो जाने की लुत्फ मिला। मैंनें भी बहुत दिनों बाद लकीरों से आकृतिया बनानें का भरपूर यत्न किया..बच्चों के लिये बहुत ही रचनात्मक।

जितेन्द्र जी का सुझाव बहुत ही अनुकरणीय है। इस दिशा में बच्चों के लिये सक्रिय साईटों की जानकारी प्राप्त कर हमें निश्चित ही उनके लिंक भी जोडने चाहिये। आखिर में हमारा उद्देश्य बच्चों को रचनात्मक बनाना ही तो है।

*** राजीव रंजन प्रसाद

ऋषिकेश खोङके "रुह" का कहना है कि -

मोहिन्दर जी,
बहुत सुन्दर प्रयास है, बच्चों के लिये बहुत ही उपयोगी है और आपकी सिखावन का बच्चे तो जब लाभ उटायेंगे तब उठायेंगे पर मैने तो कम से कम एक चित्र बनान सीख ही लिया है :) |

shobha का कहना है कि -

मोहिन्दर जी
बहुत ही सरल ढ़ंग से पक्षी बना दिया आपने । लगता है मैं भी कुछ
बनाना सीख ही जाउँगी । बच्चे निश्चित रूप से लाभ उठाएँगें । बधाई स्वीकार
कीजिए ।

रंजू का कहना है कि -

बहुत सुंदर कोशिश है यह मोहिंदेर ज़ी
मुझे भी पक्षी बनाना आ गया [:)]

रचना सागर का कहना है कि -

पक्षी इतनी आसानी से भी बन सकता है, आपसे सीखने को मिला।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)