Monday, December 31, 2007

देश को स्वर्ग बनाएँगे

देश को स्वर्ग बनाएँगे
नए साल में नई राह पर चलते जाएँगे,
नई सोच, संकल्प नया ले बढते जाएँगे।
हम भारत के बच्चे देश को स्वर्ग बनाएँगे॥
हम सागर को मथने वाले देवों के संतान हैं,
अब अपने कदमों पर हम आकाश झुकाएँगे।
हम भारत के बच्चे देश को स्वर्ग बनाएँगे॥
हम भारत पर मिटने वाले वीरों के अभिमान हैं,
अब हम अपने कर्मों से देश का मान बढाएँगे।
हम भारत के बच्चे देश को स्वर्ग बनाएँगे ॥
हम नेहरु के प्यारे बच्चे गाँधी के अरमान हैं,
हम सत्य अहिंसा और शांति का संदेश सुनाएँगे।
हम भारत के बच्चे देश को स्वर्ग बनाएँगे ॥
हम विपदाओं से लडने वाले देश के किसान हैं,
हम अपने श्रम बल से दुनिया खुशहाल बनाएँगे।
हम भारत के बच्चे देश को स्वर्ग बनाएँगे ॥
जीने का अंदाज निराला यह अपनी पहचान है,
हम मानवता और विश्व शांति का गीत दोहराएँगे।
हम भारत के बच्चे देश को स्वर्ग बनाएँगे ॥
नए साल में नई राह पर चलते जाएँगे,
नई सोच, संकल्प नया ले बढते जाएँगे ।
हम भारत के बच्चे देश को स्वर्ग बनाएँगे ॥
**********************************
हिन्दयुग्म के पाठकों को नववर्ष की शुभकामनाएँ!
डॉ. नंदन:- बचेली बस्तर (छ.ग.)


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

5 पाठकों का कहना है :

Alpana Verma का कहना है कि -

'हम भारत के बच्चे देश को स्वर्ग बनाएँगे'
बच्चे ही देश का भविष्य हैं और एक अच्छे संकल्प की सलाह आप की कविता दे रही है.
आशा है बच्चे इसे दोहराएंगे.
ढेर सारी शुभकामनाओं के साथ.
सभी बच्चों का भी नव वर्ष की बधाई.

sahil का कहना है कि -

नंदन जी आपकी आशा और संकल्पों से भरी यह कविता बच्चों के लिए बहुत ही उत्प्रेरक सिद्ध होगी
नव वर्ष की शुभकामनाओं सहित
आलोक सिंह "साहिल"

राजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि -

डॉ. नंदन,
आपकी यह रचना बच्चों में नयी उर्जा भर सकने में सक्षम है।

हम सागर को मथने वाले देवों के संतान हैं,
अब अपने कदमों पर हम आकाश झुकाएँगे।

हम विपदाओं से लडने वाले देश के किसान हैं,
हम अपने श्रम बल से दुनिया खुशहाल बनाएँगे।

हम भारत के बच्चे देश को स्वर्ग बनाएँगे ॥
नए साल में नई राह पर चलते जाएँगे,

नव वर्ष की आपको भी शुभकामनायें।

***राजीव रंजन प्रसाद

tanha kavi का कहना है कि -

हम सागर को मथने वाले देवों के संतान हैं,
अब अपने कदमों पर हम आकाश झुकाएँगे।

हम नेहरु के प्यारे बच्चे गाँधी के अरमान हैं,
हम सत्य अहिंसा और शांति का संदेश सुनाएँगे।

नई सोच, संकल्प नया ले बढते जाएँगे ।
हम भारत के बच्चे देश को स्वर्ग बनाएँगे ॥

नव-वर्ष पर इस आशावान कविता से परिचय कराने के लिए आपका धन्यवाद एवं आपको बधाईयाँ। साथ-हीं-साथ नए साल की ढेरों बधाईयाँ।

-विश्व दीपक 'तन्हा'

रचना सागर का कहना है कि -

नंदन जी
बच्चो के लिये बहुत अच्छी संकलप है ये। बधाई

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)