Wednesday, December 24, 2008

क्रिस्मस की पूर्व संध्या पर विशेष-हैपी क्रिस्मस

हैपी क्रिस्मस
प्यारे बच्चो
कल क्रिस्मस का त्योहार है जिसे विश्व भर मे पूरे उत्साह से मनाया जाता है उपहार बाँटे जाते है और क्रिस्मस ट्री को भी सजाया जाता है
यह त्योहार मुख्य रूप से ईसाई धर्म से सम्बन्धित है ,परन्तु आज इसे सभी धर्मो द्वारा प्रेम और सदभावना का सन्देश देने हेतु खुशी-खुशी मनाया जाता है वैसे भी त्योहार हमारे जीवन मे रँग और उमँग भरते है फिर चाहे वो किसी भी धर्म से सम्बन्धित क्यो न हों पर क्या आपको पता है यह त्योहार क्यों मनाया जाता है चलो मै आपको बताती हूँ ,इससे सम्बन्धित कहानी :-
बच्चो! यह त्योहार इसाई धर्म के मसीहा ईसा-मसीह के जन्मोत्सव के रूप मे मनाया जाता है उनका जन्म इसराईल मे बेथलेहम नगर मे माँ मेरी की कोख से हुआ यह त्योहार हर वर्ष २५ दिसम्बर को मनाया जाता है आप को पता है ईसा-मसीह बच्चों से बहुत प्यार करते थे
उनके के जन्म के साथ ई. सन का प्रारम्भ भी हुआ जिसका प्रयोग आज हम आधुनिक केलैण्डर के रूप मे भी करते है
उनके जन्म के पूर्व की तिथी को ईसा पूर्व ( ईसा से पहले ) कहा जाता है ईसा मसीह को ईश्वर का पुत्र कहा जाता है जिसे हिन्दु लोग अवतार कहते है इस दिन आपसी प्रेम-प्यार बाँटने हे तु एक दूसरे को उपहार भेंट किए जाते है और इस को सांत क्लॉज़ से भी जोडा जाता है जो गरीबो को उपहार बाँटते हैं
इस दिन क्रिस्मस ट्री को भी सजाया जाता है -पर पता है क्यों ....? यह भी अपने आप मे एक जीवन का सन्देश देता है यह एक ऐसा वृक्ष है जो सदा-बहार रहता है और जब क्रिस्मस होता है (दिसम्बर माह मे ) तब पूरी सर्दी होती है और सभी पेड-पौद्धे ठण्डी से सूखने लगते है उसमे भी यह वृक्ष हरा-भरा रह कर जियो और जीने दो का सन्देश देता है और पता है आपको इस पर उपहार भी टांगे जाते है और उन्हे ईश्वर का दिया हुआ उपहार माना जाता है
ईसा मसीह ने सब को प्यार से रहने और क्षमा कर देने का संदेश दिया
आपको पता है अपने जीवन मे उन्होंने बहुत सारी विपदाओं का सामना किया
लेकिन सदैव संघर्षरत रहे उनके विरोधिओं द्वारा उन्हें जब शूली पर टांगा जा रहा था
तब भी उन्होंने ईश्वर से प्रार्थना करते हुए कहा था- कि हे ईश्वर ,ये नादान लोग हैं ,
नही जानते कि ये क्या कर रहे हैं इस लिए इनको क्षमा कर देना इस तरह उन्होंने क्षमा
और प्यार को उत्तम माना

आया क्रिस्मस का त्योहार
बँटेंगे ढेरों ही उपहार
क्रिस्मस ट्री सजाया जाएगा
दोस्तों को बुलाया जाएगा
सांता क्लॉज आएंगे
उपहार हमें दे जाएंगे
सबके लिए शुभ-कामनाएं
ढेरों खुशियां घर में आएं


बस आज के लिए इतनी ही जानकारी आओ हम सब मिलकर त्योहार मनाएँ , प्रेम का सन्देश फैलाएँ
क्रिस्मस की आप सब को हार्दिक बधाई....सीमा सचदेव


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

4 पाठकों का कहना है :

संगीता पुरी का कहना है कि -

क्रिसमिस की हार्दिक बधाई....

neelam का कहना है कि -

जिंगलबेल ,जिंगल बेल ,
क्रिश्मस की बधाई सीमा जी आपको भी ,आपका लेख पढने के बाद

समयचक्र - महेद्र मिश्रा का कहना है कि -

क्रिसमिस की आप को हार्दिक बधाई-...--

devendra का कहना है कि -

'क्रिसमस' को बार-बार 'क्रिसमिस' क्यों लिखा जा रहा है-- यह मेरी समझ से परे है।
बच्चों को आवाज पर जा कर मेरी क्रिसमस के संबंध में आज प्रकाशित निबंध भी अवश्य पढ़ना चाहिए।
--देवेन्द्र पाण्डेय।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)