Monday, November 23, 2009

कद्दू की कुछ बातें

आओ बच्चों, आज कुछ कद्दू के बारे में बात करें. इन दिनों सर्दी का मौसम आ रहा है और सब्जी के बाज़ार में कद्दुओं का आगमन भी शुरू हो रहा है. वैस तो कद्दू को सब लोग अधिक पसंद नहीं करते हैं. जैसे की बिचारे चुकंदर की दशा निरीह हो जाती है वैसे ही इसे भी खाने में कुछ लोग संकोच करते हुये नाक-भौं चढ़ाते रहते हैं .....खासतौर से बच्चे. तो आइये आज कुछ इसके बारे में बताऊँ और इसकी अच्छाइयों के बारे में भी तो शायद आप लोग इसके बारे में अपनी राय बदल दें.

कद्दू कई तरह के और कई रंग के होते हैं. छोटे-बड़े, लम्बे, हलके या भारी-भरकम भी. और यह कई रंगों में पाये जाते हैं. इनके रंग नारंगी और लाल ही नहीं बल्कि हरे, पीले और सफ़ेद भी होते हैं. इसकी तुलना घिया या तुरई के स्वाद से की जाती है. और अपने भारत में हर प्रांत में लोग इसे अलग नामों से जानते हैं.....उत्तर प्रदेश में गंगाफल या सीताफल नाम से भी जाना जाता है.

अफ्रीका में कद्दू काफी छोटे और कई प्रकार के होते हैं. सुना जाता है की सबसे पहले कद्दुओं को मध्य अमेरिका में उगाया गया था. अमेरिका में इसको बहुत पसंद करते हैं और तरह-तरह से बना कर खाते हैं. और वहां पर कद्दुओं की पैदावार बहुत होती है. वहां के कुछ क्षेत्रों में कद्दुओं का उत्पादन अत्यधिक होता है. अमेरिका में 90% कद्दू की पैदावार तो वहां पर इलिनोइस नाम की एक जगह है वहां होती है. हर साल वहां कद्दू के सम्मान में तमाम शहरों में बहुत बड़ा उत्सव मनाया जाता है और मेला लगता है. और तमाम तरह से इसका खाने में इस्तेमाल किया जाता है. इंग्लैंड, अमेरिका, न्यूजीलैंड, आस्ट्रेलिया व कुछ अन्य देशों में भी ' हल्लोवीन ' नाम का दिवस अक्टूबर महीने की आखिरी तारीख को मनाते हैं जिसमें कद्दू को तराश कर उसे कभी लालटेन का आकार देकर उसके अन्दर मोमबत्ती जलाते हैं तो कभी उसे किसी भूत-प्रेत की शकल में तराशते हैं. कद्दू से कई प्रकार के केक, पाई, पुडिंग, सूप, बिस्किट आदि बनाते हैं. फिर वह लोग रिश्तेदारों व मित्रों को निमंत्रित करते हैं खाने पर, या पार्टी देते हैं. जाने-पहचाने लोगों में केक व पुडिंग बना कर भेजते हैं. और हाँ, इंग्लैंड व अमेरिका में कद्दू को पम्पकिन कहते हैं.

शताब्दियों पहले ग्रीक के लोगों ने कद्दू को ' पेपोन ' नाम दिया जिसका ग्रीक भाषा में मतलब होता है ' बड़ा खरबूजा '. फिर फ्रेंच लोगों ने इसे ' पोम्पोन ' नाम दिया और इंग्लैंड में ' पम्पिओन ' कहा. किन्तु जब ' शेक्सपिअर ' ने अपने उपन्यास ' मेर्री वाइव्स ऑफ़ विंडसर ' में इसका पम्पकिन नाम से जिक्र किया तब से सभी अंग्रेज व अमेरिकन इसे पम्पकिन कहने लगे. और बच्चों आप लोगों ने यदि ' सिन्देरेला ' नाम की कहानी सुनी या पढ़ी है तो याद करिये की उसमें एक बड़े कद्दू की शकल की बग्घी में ही सिन्देरेला बैठ कर डांस-पार्टी में गयी थी. है ना?

अब कद्दू के बारे में कुछ विशेष बातें हैं जानकारी के लिये. जैसे कि:
१. इससे कई प्रकार के स्वादिष्ट व्यंजन बन सकते हैं.
२. इसके बीजों में प्रोटीन और आयरन पाया जाता है और बीजों को भून व छील कर खाते हैं. और खाना बनाते समय भी बीजों का कई तरह से उपयोग किया जा सकता है.
३. इसके अन्दर के गूदे में विटामिन ए व पोटैसियम होता है.
४. इसके फूलों को भी खाया जा सकता है.
५. कद्दू को फलों की श्रेणी में रखा जाता है.
६. इसमें 90 % पानी होता है.

अपने भारत में कुछ लोग तो इसे बहुत प्रेम से खाते हैं. और इन दिनों तो इसका मौसम है तो इसका भरपूर उपयोग किया जाना चाहिये.
उत्तर भारत में तो इसे कुछ खास पर्वों पर जरूर बनाया जाता है. जैसे की होली-दीवाली पर या फिर व्रत-उपवास के समय भी.....सब्जी, हलवा या खीर के रूप में.

तो अब चलती हूँ. जल्दी ही इसके बारे में और भी मजेदार बातें करेंगें.

--शन्नो अग्रवाल


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

4 पाठकों का कहना है :

विनोद कुमार पांडेय का कहना है कि -

कद्दू का इतिहास बहुत बढ़िया लगा..धन्यवाद

shanno का कहना है कि -

विनोद जी,
कद्दू में और इसके इतिहास में दिलचस्पी दिखाने व पढ़ने के लिये बहुत धन्यबाद.

श्याम सखा 'श्याम' का कहना है कि -

अछ्छी जानकारी -विडियो गेम्स से हटाकर ब्च्चों को ऐसे लेख पढने को प्रेरित करना चाहिये

rachana का कहना है कि -

शन्नो जी यहाँ पर हेलोईन एक त्यौहार होता है जो ओक्टूबर की ३१ तारीख को मनाया जाता है उस में कद्दू को बीच से खाली कर के उस में आँख ,नाक,मुंह बनाया जाता है और फिर उस में दिया जला के घर के बाहर रखा जाता है .इस त्यौहार में मानते हैं की आत्माएं धरती पर आती है और भी बहुत सी मान्यताएं हैं .पर यहाँ यही मानते हैं और सभी भूत,चुडैल और भी बहुत तरह के डरावने वेश धारण कर घर घर जाते हैं ट्रिक और ट्रीट के लिए .जब लोग घर पर आते हैं तो उनको टौफ़ी दी जाती है .
आप का कद्दू के बारे में इतनी अच्छी जानकारी देने का शुक्रिया .
सादर
रचना

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)