Saturday, December 26, 2009

थक गई हूँ मैं गुड गर्ल बनते बनते

अमेरिका में अभी क्रिस्मस की रात होगी। इस अवसर पर हम रचना श्रीवास्तव की एक कविता लेकर आये हैं। रचना जी ने जब नैन्सी शेरमैन की कविता पढ़ीं तो उसकी पहली पंक्ति 'आई एम ट्राइड ऑफ बीइंग गुड बिफोर क्रिस्मस' से प्रभावित हुईं और बाल-उद्यान के लिए यह कविता लिख भेजीं।

थक गई हूँ मैं गुड गर्ल बनते-बनते
दाल पीते और करेला चखते-चखते
माँ कहती है सेंटा देख रहा है
मेरी हरकतों को तोल रहा है
सब के साथ करो बिहेव नाईस
यही है निर्णय वाइस
बनोगी अच्छी तो
दे जायेगा गिफ्ट वो सूरज ढलते-ढलते
थक गई हूँ मैं गुड गर्ल बनते बनते

दूध पूरा पीती हूँ, बहन से प्यार करती हूँ
गोद दे जो स्कूल की कॉपी
तो भी गुस्सा नहीं करती हूँ
प्यारे खिलौने भी संग उस के बाँटा करती हूँ
परेशान हो गई हूँ ऐसा करते-करते
थक गई हूँ मैं गुड गर्ल बनते-बनते

शोर करके उधम मचाऊँ ऐसा दिल करता है
खाने में बस नुडल्स खाऊँ ऐसा दिल करता है
यूनिफॉर्म पहन सो जाऊँ ऐसा दिल करता है
चीजें इधर-उधर गुमाऊँ ऐसा दिल करता है
बोर हो गईं हूँ सब कुछ सही जगह रखते-रखते
थक गई हूँ मैं गुड गर्ल बनते-बनते

सेंटा को खुश करने को
होम वर्क बिना गलती के किया
तो टीचर को आश्चर्य हुआ
मिला पूरा नंबर तो माँ का दिल खुश हुआ
इस बात पर मुझको ये अहसास हुआ
अपनों की ख़ुशी से जो संतोष मिलता है
उस का मोल कोई गिफ्ट कहाँ चुका सकता है
कहूँगी सभी से यही चलते-चलते
थकी नहीं हूँ अब मैं गुड गर्ल बनते-बनते


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

8 पाठकों का कहना है :

Sujan Pandit का कहना है कि -

Nice Poem - congratulation.

sumit का कहना है कि -

सेंटा को खुश करने को
होम वर्क बिना गलती के किया
तो टीचर को आश्चर्य हुआ
मिला पूरा नंबर तो माँ का दिल खुश हुआ
इस बात पर मुझको ये अहसास हुआ
अपनों की ख़ुशी से जो संतोष मिलता है
उस का मोल कोई गिफ्ट कहाँ चुका सकता है
कहूँगी सभी से यही चलते-चलते
थकी नहीं हूँ अब मैं गुड गर्ल बनते-बनते

kavita bahut he acchi lagi

विनोद कुमार पांडेय का कहना है कि -

bahut pyari kavita..dhanywaad

neelam का कहना है कि -

bahut hi achche bhaav hain rachna ji,

merry christmas to u and all yors

near and dear ones' .

काजल कुमार Kajal Kumar का कहना है कि -

बढ़िया है जी

rachana का कहना है कि -

कविता पसंद करने के लिए आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद .
कविता के साथ जो फोटो लगाई है वो बहुत ही सुंदर है आप का धन्यवाद
रचना

Disha का कहना है कि -

its really very very good poem.

amita का कहना है कि -

सेंटा को खुश करने को
होम वर्क बिना गलती के किया
तो टीचर को आश्चर्य हुआ
मिला पूरा नंबर तो माँ का दिल खुश हुआ
इस बात पर मुझको ये अहसास हुआ
अपनों की ख़ुशी से जो संतोष मिलता है
उस का मोल कोई गिफ्ट कहाँ चुका सकता है
कहूँगी सभी से यही चलते-चलते
थकी नहीं हूँ अब मैं गुड गर्ल बनते-बनते

bahut sunder kavita hai

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)