Friday, September 12, 2008

वृक्ष

पल पल बढ़ा प्रदूषण जाता,
प्राण वायु में घुलता जाता,
वृक्षों को है काटा जाता,
जंगल को सिमटाया जाता ।

जीवन यापन जिससे पाते,
नष्ट उसी को हम कर जाते,
नियम प्रकृति के हमें न भाते,
उपकार इनका भूल जाते ।

विष पीकर यह हमें बचाते,
दे अमृत सदा प्राण बचाते,
परहित धर्म प्रतिपल निभाते,
फल, फूल, छांव सब हैं पाते ।

धरती का श्रृंगार तुम्ही हो,
जीवन का आधार तुम्ही हो,
विहगों का संसार तुम्ही हो,
बच्चों का आकाश तुम्ही हो ।

प्राणी को वरदान तुम्ही हो,
राही को आराम तुम्ही हो,
औषधि का आयाम तुम्ही हो,
दानियों में महान तुम्ही हो ।

आओ मिल सब पेड़ उगाएँ,
इस धरती पर स्वर्ग बसाएँ,
हरा भरा हम देश बनाएँ,
जग में फिर खुशियां बिखराएँ ।

कवि कुलवंत सिंह


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

3 पाठकों का कहना है :

Zakir Ali 'Rajneesh' का कहना है कि -

Sundar kavita.

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

अच्छा नारा दिया है कुलवंत जी आपने

Seema Sachdev का कहना है कि -

Bahut achche kavi ji .Aaj samay ki maang hai ki ham sab apane paryavaran ko bachaane ke liye jaagriti abhiyaan chalaayen .

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)