Wednesday, September 24, 2008

सब से पहले




आज उठा मै सबसे पहले|
सबसे पहले आज सुनूँगा
हवा सवेरे की चलने पर,
हिल ,पत्तों का करना 'हर-हर'
देखूँगा, पूरब में फैले बादल पीले, लाल सुनहले|
आज उठा मै सबसे पहले|
सबसे पहले आज सुनूँगा,
चिडिया का डैने फड़का कर,
चहक -चहक कर उड़ना 'फर-फर'
देखूँगा, पूरब में फैले बादल पीले, लाल सुनहले|
आज उठा मै सबसे पहले|
सबसे पहले आज चुनूँगा,
पौधे -पौधे की डाली पर
फूल खिले जो सुंदर -सुंदर
देखूँगा ,पूरब में फैले बादल पीले ,लाल,सुनहले
आज उठा मैं सबसे पहले
सबसे कहता आज फिरूँगा
कैसे पहला पत्ता डोला,
कैसे पहला पंछी बोला,
कैसे कलियों ने मुँह खोला ,
कैसे पूरब ने फैलाए बादल पीले, लाल, सुनहले
आज उठा मैं सबसे पहले

स्रोत- नीलिमा बच्चन की चौथी वर्षगाँठ अथवा पाँचवे जन्मदिन पर उनके दादा जी, हरिवंशराय बच्चन जी के आशीष प्यार के साथ भेंट की गई पुस्तक "नीली चिड़िया" से


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

2 पाठकों का कहना है :

sachin का कहना है कि -

very nice blog./.
http://shayrionline.blogspot.com/

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

यह कविता बहुत ही प्यारी है। बाल-मन क्या, बड़े भी पढ़ें तो बच्चे हो जायें। इसे आवाज़ मिलनी चाहिए।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)