Friday, September 26, 2008

बच्चे

बच्चे अच्छे
बच्चे सच्चे
बच्चे मनके
प्यार सबसे करते ।

कपट न जानें
बैर न जानें
द्वेष न जानें
हठ भले ही करते ।

सत्य धर्म है
सत्य कर्म है
सत्य मर्म है
झूठ कभी न कहते ।

निर्मल मन है
पावन मन है
उज्ज्वल मन है
अहं कभी न रखते ।

दूर बुराई
सब चतुराई
सब हैं भाई
दोस्त सब को कहते ।

भोली सूरत
भोली सीरत
नटकट आदत
तंग सबको करते ।

कवि कुलवंत सिंह


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

3 पाठकों का कहना है :

PREETI BARTHWAL का कहना है कि -

कुलवंत जी बिलकुल सही
बच्चे अच्छे
बच्चे सच्चे
बच्चे मनके
प्यार सबसे करते ।

PREETI BARTHWAL का कहना है कि -

कुलवंत जी बिलकुल सही
बच्चे अच्छे
बच्चे सच्चे
बच्चे मनके
प्यार सबसे करते ।

ranjan का कहना है कि -

बच्चे..
क्या कहें..
मन ही नहीं भरता..
निहारते निहारते..

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)