Monday, February 25, 2008

बसंत आया है

बसंत आया है

आया है फिर से बसंत राजा आया है
बहुत दिनों बाद फिर हिय हरषाया है
आया है फिर से बसंत राजा आया है
टेसू ने फूलों से पूरा मण्डप सजाया है
बासंती हवा ने सारा सौरभ फैलाया है
महुए की मादकता से आम बौराया है
वृक्षों ने पल्लव का तिलक लगाया है
भौंरों ने कलियों को चूमा-चटकाया है
कोयल ने कुहु-कुहु प्रेम-गीत गाया है
प्रकृति है गदगद यौवन भर आया है
नंदन है हर्षित जी, मन गुदगुदाया है
बहुत दिनों बाद फिर हिय हरषाया है
आया है फिर से बसंत राजा आया है
----------------------------------
-----
डॉ. नंदन ,बचेली (बस्तर)
-------------------------------------


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

5 पाठकों का कहना है :

रंजू का कहना है कि -

सुंदर वसंत आगमन की कविता है !!

seema gupta का कहना है कि -

स्वागत! स्वागत !! स्वागत बसंत !!!
हे प्रेम्पुन्ज! हे आस रूप !!
ऋतुपति तेरी सुषुमा अनंत !!!
स्वागत! स्वागत !! स्वागत बसंत !!!
" बसंत के आगमन का सुंदर स्वागत " अच्छी कवीता.

sahil का कहना है कि -

नंदन जी बेहतरीन अंदाज में बसंत का स्वागत किया,स्वागत योग्य कविता,बधाई हो
आलोक सिंह "साहिल"

Bhupendra Raghav का कहना है कि -

नन्दन जी,

सुन्दर बसंती कविता, मोहक..

अजय यादव का कहना है कि -

वासंती हवा की खुशबू से शोभित कविता बहुत अच्छी लगी. बधाई!

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)