Wednesday, April 22, 2009

समय का महत्व



कुण्डलिनी

सदा समय पर जो करे, काम और आराम।
मिले सफलता उसी को, वह पाता धन-नाम।
वह पाता धन-नाम, न थक कर सो जाता है।
और नहीं पा हार, बाद में पछताता है।
कहे 'सलिल' कविराय, न खोना बच्चों अवसर।
आलस छोडो, करो काम सब सदा समय पर।

-संजीव 'सलिल'




आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

6 पाठकों का कहना है :

आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' का कहना है कि -

कुण्डली से अधिक अच्छा साथ में लगाया गया चित्र है. पूरी तरह उपयुक्त...धन्यवाद.

rachana का कहना है कि -

समय के महत्त्व का ज्ञान तो सभी को होना चाहिए .आप ने गागर में सागर भर दिया है .
हमेशा की तरह बहुत खूब
सादर
रचना

shanno का कहना है कि -

अरे वाह! क्या रंग-बिरंगी समय की clock और फिर समय की उपयोगिता को बताते हुए आपकी कुंडलिनी. बहुत खूब! आप ने तो चुटकी बजाते लिख लिया होगा इसे. दोनो ही बहुत भायीं मन को. धन्यबाद.

manu का कहना है कि -

कुंडली और चित्र दोनों का काम्बिनेशन शानदार लगा,,,,,
बधाई,,,स्वीकारें,,,,

neelam का कहना है कि -

शैलेश की तरफ से चित्र पसंद
आने पर हम आप सभी का धन्यवाद करते हैं |
समय का महत्व समझाने एक अनूठा प्रयास ,|
साधुवाद आपको भी आचार्य जी |

संगीता पुरी का कहना है कि -

बच्‍चों को समय का महत्‍व सिखाने के लिए यह बहुत सुंदर रचना है .. आभार आपका।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)