Thursday, April 2, 2009

बन्दर मामा और चुनाव



बन्दर मामा पहन पजामा, लड़ने चले चुनाव.
कुरता जाकेट टोपी जूता, पहना पड़े प्रभाव.
चेले-चमचे चंद जुटाए, पर्चे भी बँटवाये,
चौराहों पर बैनर बांधे, भाषण खूब सुनाये.
'मैं सब के सुख-दुःख का साथी, सब का सच्चा मीत.
भारी बहुमत से जितवायें सही बनायें रीत.'
भालू बोला- 'तूने बगिया से फल खूब चुराए.'
हिरनी पूछे- 'शेर देख क्यों भागे पूंछ दबाये?'
पत्रकार थी बाया, कैमरा लिए खींचती चित्र.
मुंह बाए मामा जागते थे जोकर बहुत विचित्र.
चिंकी चुहिया चीं-चीं करती आयी, फिर चिल्लाई.
'दांत तुम्हारे पीले-गंदे, करते क्यों न सफाई?'
उल्लू था बन्दर का साथी, बोला- 'चुप हो सुनिए.
इस समाजसेवी को अपना नेता सब मिल चुनिए.
स्वर्ग बनेगा हिंद युग्म यदि इनको आप चुनेंगे.'
हाथी बोला हमें न जाना स्वर्ग, न आप मरेंगे.
मैना चीखी- ''लूट खायेगा सबको बन्दर राम.
ठाठ गधों का होगा, बाकी सबका काम तमाम.'
'सलिल' निकट से शेर दहाड़ा, भागे बन्दर मामा.
चढ़े झाड़ पर लपक, फट गया, खिसका-खुला पजामा.

--आचार्य संजीव 'सलिल'


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

4 पाठकों का कहना है :

महामंत्री - तस्लीम का कहना है कि -

मनोरंजक कविता।

-----------
तस्‍लीम
साइंस ब्‍लॉगर्स असोसिएशन

सीमा सचदेव का कहना है कि -

बंदर मामा की कविताएं तो मुझे आज भी बहुत प्रिय हैं | ऐसी ही एक कविता याद आ रही है .........

1.बंदर मामा पहन पजामा , दावत खाने आए
ढीला कुर्ता टोपी जूता , पहन बहुत इतराए
रसगुल्ले पर जी ललचाया , मुँह मे रखा गप से
नरम नरम था गरम गरम था , जीभ जल गई लप से
बंदर मामा रोते रोते , वापस घर को आए
फैंकी टोपी फैंका जूता , रोएं और पछताएं

अरे यह लो एक और कविता याद आ गई , वो भी सुना ही देती हूँ

2.बंदर मामा पहन पजामा निकले बडी शान से
हाथ मे ड्ण्डा सिर पर हण्डा , गाना गाते तान से
बींच सडक पर ऐसे चलते , सब देखें हैरान से
छूटा ड्ण्डा गिर ह्ण्डा , मामा गिरे धडाम से

********************************

मजेदार कविता | आपकी पहले भी एक कविता आई थी बाल-उद्यान पर मुर्गा-मुर्गी की कविता |
अभी तक वो दिमाग मे घूम रही है | कृपया ऐसी कविताएं जलदी-जलदी भेजा कीजिए |

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

इस तरह की कविताएँ बच्चों को खूब भाती हैं। सीमा जी की तरह मैं भी फरमाइश कर देता हूँ।

आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' का कहना है कि -

अरे बाप रे! यहाँ तो बन्दर मामा पार्टी ही बन गयी...न जाने कितनी सीटें जीत ले अगले चुनाव में...

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)