Monday, August 10, 2009

स्पेन की एक छोटी सी बच्ची का काव्यपाठ

प्यारी नीलम की आवाज़ में सुनें ये कविता और प्रोत्साहित करें। नीलम के पास हिन्दी में बात करने के लिए सिर्फ़ उनकी माँ हैं, क्योंकि वो स्पेन में रहती हैं। हमें इस बात को स्वयं से पूछना चाहिए की हमारे नौनिहाल जब हिन्दी पढ़ना और समझना चाहते हैं, तो फिर हम क्यों न उन्हें पूरा प्रोत्साहन दें और उनका हौसला बढ़ाएँ। इस कविता को खुद नीलम की माँ यानी पूजा अनिल ने लिखा है।



प्यारी तितली

गुड़िया रानी - रंग बिरंगी प्यारी तितली,
नाम अपना बतलाओगी?
मैं हूँ गुड़िया इस बगिया की,
मुझसे हाथ मिलाओगी?

प्यारी तितली - हाँ-हाँ !!!

गुड़िया रानी - छुपा छुपी खेलेंगे हम,
मिलकर प्यारे फूलों के संग,
जब मैं तुमको ढूँढ लूं तितली,
मुझे पकड़ने आओगी?

प्यारी तितली - हाँ-हाँ !!!

गुड़िया रानी - फूल हैं सारे कितने सुन्दर,
पंख तुम्हारे कितने सुन्दर,
थोड़े रंग मुझको भी देकर,
सुन्दर मुझे बनाओगी?

प्यारी तितली - हाँ-हाँ !!!

गुड़िया रानी - मम्मी पापा से मिलवाऊं,
अपनी सखियों से मिलवाऊं,
प्यारी तितली प्यारी तितली,
घर तुम मेरे आओगी?

प्यारी तितली - ना ना !! - ना ना !!
इस बगिया में रोज़ मिलेंगे,
फूलों कलियों संग खेलेंगे,
आओ आओ गुड़िया रानी,
कब तक दूर खड़ी रहोगी?

आओ आ जाओ !!!!
आओ आ जाओ!!!!


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

7 पाठकों का कहना है :

विश्व दीपक ’तन्हा’ का कहना है कि -

मैं तो "बच्ची की तस्वीर" देखकर हीं समझ गया था कि ये नन्ही-सी गिलहरी पूजा जी की बेटी है।

बड़ी हीं प्यारी आवाज़ है और पूजा जी ने कविता को लिखा भी बड़ा खूब है।

मज़ा आ गया।

-विश्व दीपक

neelam का कहना है कि -

अले वाह ,
वेली गुड ,एक और नीलम we r friends now .nice effort beta, keep it up we want more poetry from u ,next time try to write on your own .i know u can do it.
wish u gud luck for bright future.from the next time i will write in hindi for u.

shanno का कहना है कि -

प्यारी नीलम जी,
आपने कविता को बड़ी प्यारी और सुंदर आवाज़ में गाया है. बधाई! और आपकी मम्मी, यानी पूजा जी को भी इस सुंदर कविता को लिखने की बधाई.
अब मेरी तरफ से आपको एक दो पप्पी भी.....puch.....puch...
खुश रहो.

Manju Gupta का कहना है कि -

कवयित्री पूजा जी को सुंदर कविता के लिए बधाई .माँ अपने बच्चों को प्रोत्साहित करती है प्यारी नीलम की आवाज मुझे सुनाई नहीं दी .

Disha का कहना है कि -

सुन्दर रचना और नन्ही बच्ची का काव्य पाठ भी बढिया है आवाज कुछ कम थी.

manu का कहना है कि -

बहुत प्यारी आवाज़...
सुंदर कविता...बिना पढ़े सुने कमेन्ट ना करने की जिद सी है ...
सो आज इतने दिन बाद सुन के कमेन्ट दे रहा हूँ.......

प्यारी तितली प्यारी तितली,
घर तुम मेरे आओगी?

प्यारी तितली - ना ना !! - ना ना !!

हाँ हाँ ..हाँ हाँ

ऐसा बोलना था जी...
:)

Shamikh Faraz का कहना है कि -

खूबसूरत

गुड़िया रानी - मम्मी पापा से मिलवाऊं,
अपनी सखियों से मिलवाऊं,
प्यारी तितली प्यारी तितली,
घर तुम मेरे आओगी?

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)