Wednesday, November 7, 2007

धनतेरस क्यों मनाया जाता है?

प्यारे बच्चों

दीपावली सप्ताह मना रहे हैं? अच्छा है। अब तो आपके स्कूलों में भी छुट्टियाँ होने वाली होंगी? अच्छा है तुम सब दीप पर्व का आनन्द उठाओ। तुम जानते हो बच्चों कि इस पर्व पर इतनी छुट्टियाँ क्यों पड़ती हैं ? मैं बताती हूँ ।

बच्चों यह एक पर्व नहीं पर्वों का समूह है। यह पूरे पाँच पर्वों का समूह है। मैं आपको बताती हूँ इनके बारे में।

१ सबसे पहला दिन है धनतेरस कहा जाता है कि सागर मन्थन के बाद इसी दिन धन्वन्तरी जी एक अमृत कलश लेकर इसी दिन धरती पर अवतरित हुए थे। उनके अमृत कलश के प्रतीक रूप में आज भी बर्तन खरीदे जाते हैं। घर में नए बर्तन लक्ष्मी जी के आगमन की सूचना देते हैं ।

एक और बात - आप जानते हैं ना कि स्वस्थ्य शरीर में ही स्वस्थ्य मस्तिष्क निवास करता है? धनवन्तरी जी एक वैद्य के रूप में जाने जाते हैं। उनकी पूजा से शरीर रोगों से मुक्त रहता है।

तो बच्चों अपने शरीर को स्वच्छ एवं रोग मुक्त रखें और महान वैद्य धनवन्तरी जी से प्रार्थना करें कि हमें रोगों से मुक्त करें। आप सभी का दिन शुभ हो तथा आप सब स्वास्थ्य लाभ लें यही कामना है।

कल फिर आपको दूसरे दिन की कथा और महत्व बताने आऊँगी । तब तक के लिए बाय -बाय खुदा हाफ़िज़

आपकी-
शोभा आन्टी


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

6 पाठकों का कहना है :

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

आन्टी,

बहुत उपयोगी जानकारी है। हमारे नन्हे-मुन्ने बच्चे आगे से धनवंतरि की पूजा अवश्य करेंगे।

राजीव का कहना है कि -

ज्ञानवर्धक जानकारी और धनवन्तरि जयन्ती (धनतेरस) के बारे में कथा बताने के लिये धन्यवाद!

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ का कहना है कि -

धनतेरस के बारे में रोचक जानकारी पढ कर अच्छा लगा, बधाई।

रचना सागर का कहना है कि -

बहुत अच्छी जानकारी

Anonymous का कहना है कि -
This comment has been removed by a blog administrator.
Sunita Aggarwal का कहना है कि -
This comment has been removed by a blog administrator.

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)