Tuesday, March 4, 2008

फूलों का उत्सव

क्या आप जानते हैं कि जापानी फूलों के बहुत शौकीन होते हैं !कमल .चेरी और गुलदाउदी आदि के फूल जापानी लोगों को बहुत प्रिय होते हैं ! जापान में कदम कदम पर इन फूलों के बगीचे मिलेंगे !फूलों के मौसम में जापानी इनके कई उत्सव मनाते हैं ,जो कमलोत्सव ,चेरी -उत्सव और गुल दाउदी उत्सव आदिनामों से प्रसिद्ध है ! फूलों में सुगंध तो इतनी नही होती परन्तु इनके रंग बहुत आकर्षक होते हैं !गर्मियों में जब चेरी पर फूल आते हैं तो उनकी शोभा देखने सारा जापान उमड़ पड़ता है ! जापानी लोग अपने पूरे परिवार के साथ बगीचों में जाते हैं और घंटो फूलों के साथ बिताते हैं वह फूलों पर कविता लिखते हैं और उन कविताओं को फूलों पर लटका कर घर लौट आते हैं ! पूरी बहार में खिले हुए फूलों की शोभा देखने के लिए निर्धन से निर्धन जापानी भी कई सौ मील की यात्रा खुशी खुशी कर लेता है! कमल के मौसम में स्कूल के अध्यापक अपने विद्यार्थी को सूर्य निकलने से पहले कमल के तालाब पर ले जा कर उन्हें समझाते हैं कि कमल कैसे खिलते हैं ..हमारे भारत में भी वसंत के दिन शुरू होते ही राष्ट्रपति भवन में मुग़ल गार्डन सब आम लोगो के लिए खोल दिया जाता है ताकि लोग सुंदर फूलों को खिलता देख सके ..आप सब ने अभी तक नही देखा है तो जरुर देख के आए !!


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

10 पाठकों का कहना है :

भोजवानी का कहना है कि -

कबीर सा रा रा रा रा रा रा रा रारारारारारारारा
जोगी जी रा रा रा रा रा रा रा रा रा रा री

seema sachdeva का कहना है कि -

बच्चो के लिए फूलो के बारे मे अनूठी जानकारी अच्छी लगी.....सीमा सचदेव

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ का कहना है कि -

फूलों के बारे में सुन्दर जानकारी दी है। यूँ तो दिल्ली अक्सर ही जाना होता है, पर दुर्भाग्य यह कि आजतक मुगल गार्डन नहीं देखा। इस बार दिल्ली जाने पर यह मेरी पहली प्राथमिकता होगी।

Bhupendra Raghav का कहना है कि -

फूल तुम्हें भेजा है खत में.......

आपकी पाती में फूल देखकर अनायास मुखरित हो उठा जी..
सच में फूलों से भरा खत है आज तो...

फूल देखकर तो कोई भी फूला नही समाता
फूल प्यारा नन्हा सा पर सबके दिल को भाता
कितना सुन्दर कितना कोमल यह नाजुक सा नाता
फूल देखकर तो बरबस ही दिल कुछ् नगमे गाता..


रंजू जी बधाई ...

अजय यादव का कहना है कि -

भई वाह! इतनी खूबसूरत पाती देखकर दिल बाग-बाग हो गया.

sahil का कहना है कि -

इतने हसीं फूलों को देखकर मुड़ मस्त हो गया,
आलोक सिंह "साहिल"

अवनीश एस तिवारी का कहना है कि -

अच्छी बातें |
बाटने के लिए धन्यवाद |
अवनीश

tanha kavi का कहना है कि -

रंग-बिरंगे एवं सुगंध देते मनमोहक फूलों के बारे में इतनी जानकारी देने के लिए रंजू जी, आपका बहुत-बहुत शुक्रिया।

-विश्व दीपक ’तन्हा’

anju का कहना है कि -

आपके इन फूलों ने मेरा मन मोह लिया
साथ में जानकारी से ज्ञान तो बड़ा ही है और लहराते फूलों के बाग़ के भी दर्शन हो गए
बहुत खूब रंजना जी

आलोक शंकर का कहना है कि -

ranjana ji
bahut tarotaja karne wali paati hai
isi tarah khushbudar jaankari dete rahiye

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)