Friday, March 21, 2008

विश्वास कीजिए, ये सच है













उपर्युक्त तस्वीरों को देखकर आश्चर्य होता है न! ...ये तस्वीरें एस.बी.ओ. ए. पब्लिक स्कूल, औरंगाबाद (महाराष्ट्र) की छात्रा पूजा बंग द्वारा बनाई गईं रंगोलियों की हैं। ..असाधारण प्रतिभा की धनी पूजा बंग एक चित्रकार भी हैं जो अनेक पुरस्कारों से सम्मानित हैं। ...रंगोली प्रतियोगिता में इस बार उन्होंने पूरे मराठवाड़ा में द्वितीय स्थान प्राप्त किया ..इनकी प्रतिभा को सबके सामने लाने का श्रेय जाता है हमारी सक्रीय सदस्या सुनीता यादव को।


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

9 पाठकों का कहना है :

रंजू का कहना है कि -

कमाल की बनी हुई है यह तो बहुत शानदार और सुंदर लगी यह सब बहुत बहुत शुभकामना इस नन्ही चित्रकार को और सुनीता जी को धन्यवाद !!

शोभा का कहना है कि -

पूजा बिटिया
तुमने कमल के चित्र बनाये हैं. तुम्हारे भीतर के कलाकार को नमन . बहुत-बहुत प्यार तथा आशीर्वाद

anju का कहना है कि -

वाह वाह पूजा आप बहुत अच्छी रंगोली और चित्रकारी कर लेती हैं.. सारे चित्र बोलते प्रतीत होते हैं बहुत अच्छे
इसी तरह आगे बढो बहुत बड़ी चित्रकार बनोगी
बहुत खूब
बधाई आपको इतनी सुंदर चित्रकारी के लिए

Bhupendra Raghav का कहना है कि -

वाव... वन्डरफुल...

ओ.. नन्हीं चित्रकार! बहुत बहुत बधाई
और ढ़ेर सारा प्यार..
बहुत ही प्यारा है, अत्यंत सुखदायक है,
तुम्हारा चित्रो का संसार..
ओ.. नन्हीं चित्रकार....

माँ शारदा का कर-कमल तुम पर है..
चलते जाना, बढ़ते जाना अविराम
परिस्थितियाँ अनुकूल हों प्रतिकूल हों
रस्ते पथरीले हों, शूल हों..
कभी मत मानना हार...
ओ नन्हीं चित्रकार..

बहुत बहुत शुभकामनायें..
भगवान तुम्हारे चित्रो की भाँति ही तुम्हारे जीवन में
अनेकानेक खुशियों के रंग भरे.. ऐसी कामना है..
शुभ होली..

सजीव सारथी का कहना है कि -

keep it up bitiya ji.... u r brilliant

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

मैंने कभी भी इतनी सुंदर रंगोलियाँ नहीं देखी। पूजा, तुममें अद्‌भुत प्रतिभा है। तुम्हारे सामने रंगसाज़ी भी फेल है।

बहुत-बहुत बधाई और हिन्द-युग्म पर स्वागत।

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ का कहना है कि -

वाकई बहुत गजब की कलात्मकप्रतिभा है। पूजा को बहुत बहुत बधाई।

tanha kavi का कहना है कि -

पूजा , तुम्हारे बनाए हुए चित्र एवं रंगोली देखकर दिल खुश हो गया। तुम बेहद प्रतिभावान हो। अपनी प्रतिभा को कभी धूमिल मत होने देना।

-विश्व दीपक ’तन्हा’

POOJA ANIL का कहना है कि -

इतनी सुंदर रंगोली मैं पहली बार देख रही हूँ , यकीन नहीं होता कि ये चित्र नहीं रंगोली है ,बहुत ख़ूबसूरत है ,ढेर सारी शुभकामनाएं पूजा के लिए पूजा अनिल की तरफ़ से

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)