Thursday, May 15, 2008

बाल-दोहावली-2

प्यारे बच्चो आज फिर से बाल-दोहावली से कुछ दोहे आपके लिये लाया हूँ, पिछली बार
बाल-दोहावली
में आपने जो सीखा था वो कर रहे हो ना...
आओ कुछ और बातें सीखें इस बाल-दोहावली-2 में..


बाल-दोहावली - 2
***************


ताजी हवा में प्रातः ही सैर करे भरपूर ।
दिनभर रहती ताजगी, आलस भागे दूर ॥

अगर लगी हो चोट तो, राखो नहीं छुपाय ।
घर में जो भी हो बड़ा फौरन देओ बताय ॥

लावारिश कुछ देखकर, हाट पेंठ बाजार ।
मत होना किसी भाँति भी छूने को तैयार ॥

सोना गर हो वक्त पर, हल्का खाना खाय ।
'राघव' पाचन चुस्त हो,निंदिया मीठी आय ॥

'राघव' राहें हो अगर, अनदेखी अनजान ।
कदम रखे से पूर्व ही सोचो कहत सुजान ॥

तेज धूप से धूल से आखों में क्षति जाय ।
नेत्र बड़े अनमोल हैं, 'राघव' रखो बचाय ॥

सड़कें,पार्क,पडोस, या घर,दफतर,स्कूल ।
कचड़ा दे बीमारियाँ, हो ना ऐसी भूल ॥

15-05-2008


आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

8 पाठकों का कहना है :

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ का कहना है कि -

Achchha laga dohon ko padh kar. Badhaayi.

Seema Sachdev का कहना है कि -

भूपेंद्र जी या फ़िर आधुनिक काल के रहीम जी ......बहुत ही अच्छी लगी आपकी ज्ञान-वर्धक और अमूल्य दोहावली.....सीमा सचदेव

रंजू ranju का कहना है कि -

बहुत बहुत अच्छे लगे यह दोहे ..आप तो कलयुग के रहीम बन गए :) बहुत खूब

sahil का कहना है कि -

लाजवाब,भूपेंद्र जी
आलोक सिंह "साहिल"

Sushma Garg का कहना है कि -

राघव जी,
आपकी सीख भरी दोहावली मन को है बहुत भाई,
बधाई, बधाई, बधाई.

Sushma Garg का कहना है कि -

कृपया "भाई" को "भायी" पढ़ें.
धन्यवाद.

pooja anil का कहना है कि -

सीख "राघव" दद्दा की, बहुत उपयोगी बच्चों,
पढो , विचारो, सोचो और हमेशा याद रखो.

(दद्दा- बड़ा भाई )

बहुत अच्छे राघव जी

^^पूजा अनिल

शोभा का कहना है कि -

राघव जी
बालदोहावली बहुत अच्छी लगी-
'राघव' राहें हो अगर, अनदेखी अनजान ।
कदम रखे से पूर्व ही सोचो कहत सुजान
बधाई स्वीकारें।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)